भारतीय सैनिकों को भावभीनी श्रद्धांजलि देने के साथ ही ब्राह्मण सेवा संघ सदस्यों द्वारा चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने की घोषणा



ब्राह्मण सेवा संघ के सदस्यों ने चीनी उत्पाद न खरीदने की ली शपथ। आर्थिक बहिष्कार के लिए चलेगा जन जाग्रति अभियान।


वृन्दावन। ब्राह्मण सेवा संघ कोर समिति की एक आवश्यक बैठक स्थानीय गोधुलीपुरम स्थित श्रीहरिदासधाम पर आयोजित की गई।

बैठक में चीन सीमा पर शहीद हुए भारतीय सैनिकों को भावभीनी श्रद्धांजलि देने के साथ ही सदस्यों द्वारा चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने की घोषणा भी की गई।


बैठक की अध्यक्षता करते हुए सेवा संघ के संस्थापक प. चन्द्रलाल शर्मा ने कहा कि चीन की कायराना हरकत का मुँहतोड़ जवाब जांबाज भारतीय सेना ने दिया है। हमें अपने शहीद वीर जवानों पर गर्व है।

अध्यक्ष आचार्य आनन्दवल्लभ गोस्वामी ने कहा कि आजका भारत 1962 के भारत से सर्वथा भिन्न है। दुश्मन की किसी भी चाल का मुकाबला करने के लिये भारत का बच्चा बच्चा हर समय तैयार है।

प. सत्यभानशर्मा एवं प. जगदीश नीलम ने कहा कि अब समय आ चुका है कि चीन की आर्थिक कमर तोड़ने के लिये चीनी उत्पादों का बहिष्कार किया जाये। ब्राह्मण सेवा संघ द्वारा इसके लिये जन जाग्रति अभियान चलाया जाएगा।

विमल चैतन्य ब्रह्मचारी एवं सतीशचन्द्र पाराशर ने कहा कि चीन द्वारा हमारे देश से कमाये धन का हमारे ही खिलाफ सैन्य कार्यवाहियों में उपयोग किया जाता है।

श्रीहरि कौशल एवं महेश बाबा महाराज ने कहा कि चीन से आयातित वस्तुओं का बहिष्कार करने से जहाँ एक ओर उसे आर्थिक झटका लगेगा वहीं दूसरी ओर स्वदेशी उत्पादन द्वारा देश सम्पन्न बनेगा।

सभा में ब्राह्मण सेवा संघ के समस्त सदस्यों द्वारा चीन आयातित वस्तुओं का पूर्णतः बहिष्कार करने का शपथ पूर्वक संकल्प लिया गया।

अन्त में शहीद हुए वीर जवानों की आत्मा की शांति हेतु दो मिनट का मौन रखकर श्रध्दांजलि समर्पित की गई।

ब्रजेश शर्मा, नीरज शर्मा, भारतभूषण शर्मा, अविनाश शर्मा आदि उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments