अब घर बैठे कराएं एक्स-रे, ईसीजी व एबीजी टेस्ट,संस्था के मोबाइल नंबर-9654000098 पर संपर्क किया जा सकता है


-कैनविन फाउंडेशन ने अब घर बैठे एक्स-रे सुविधा की शुरू
-कोरोना महामारी में इस सुविधा से लोगों को मिलेगा फायदा

गुरुग्राम। कोरोना महामारी के बीच कैनविन फाउंडेशन द्वारा जिस तरह से कार्य किए गए हैं, वे एक माइलस्टोन हैं। लोगों ने सुविधाओं का भरपूर लाभ उठाया है। अन्य सुविधाओं के साथ अब घर बैठे एक्स-रे, ईसीजी और एबीजी की सुविधा भी संस्था ने शुरू कर दी है, ताकि बीमार, लाचार लोगों को लेकर परिजन अस्पताल न जाएं। कोरोना महामारी में उनका बचाव जरूरी है। गुरुग्राम में पहली बार इस तरह की सेवा शुरू की गई है। 

कोरोना महामारी ही नहीं, बल्कि इससे पहले से ही चिकित्सा के क्षेत्र में सक्रिय संस्था कैनविन फाउंडेशन लगातार नए योजनाएं लागू करके लोगों को राहत देती आ रही है। अब फाउंडेशन ने लोगों को घर बैठे एक्स-रे कराने की सुविधा की शुरुआत भी कर दी है। जिसका लोगों ने लाभ लेना शुरू कर दिया है। संस्था के संस्थापक डीपी गोयल व सह-संस्थापक नवीन गोयल का कहना है कि उनका एक ही ध्येय है कि कोई भी व्यक्ति सुविधाओं के अभाव में परेशान ना हो। इसलिए उन्होंने इस संस्था का गठन किया है। इस संस्था के बैनर तले ही वे समाजसेवा में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि कैनविन फाउंडेशन शहर में एक मात्र ऐसी संस्था है, जो कि इस तरह से लोगों को घर बैठे सुविधाएं दे रही हैं। लॉकडाउन की शुरुआत के साथ ही लोगों को संस्था ने 15 प्रतिशत छूट के साथ दवाओं की होम डिलीवरी करवाई।

इसके अलावा मरीजों को घरों से अस्पताल लाने-ले जाने के लिए एम्बुलेंस सेवा शुरू की। जिन घरों बुजुर्ग, बीमार, लाचार लोग हैं, उन्होंनें संस्था के इस प्रयास को सराहा और धन्यवाद भी किया है। इसके अलावा कोरोना के टेस्ट के लिए भी संस्था ने एक लैब से अनुबंध करके कम कीमत में टेस्ट कराने की शुरुआत की थी। जिसका बहुत से लोगों ने लाभ उठाया। इसके साथ ही घर बैठे शहर के टॉप डॉक्टर्स से फोन कॉल पर परामर्श की सेवा भी संस्था ने शुरू कर रखी है। इन सबके साथ ही अब घर बैठे एक्स-रे की सुविधा भी संस्था ने शुरू कर दी है। संस्था के मोबाइल नंबर-9654000098 पर कॉल करके संपर्क किया जा सकता है। यह मोबाइल एक्स-रे सुविधा मरीज को घर बैठे ही दी जाएगी। गुरुग्राम में पहली बार इस तरह का कार्य शुरू हुआ है। इसका लोग लाभ उठाएं, ताकि कोरोना महामारी से उनका बचाव हो सके।

Post a Comment

0 Comments