खुद कोरोना पॉजिटिव हो चुके युवा शिक्षक अब मरीजों को सीखा रहे योग के गुर

 *प्रेस विज्ञप्ति - सादर प्रकाशनार्थ 🙏* 



खुद कोरोना पॉजिटिव हो चुके युवा शिक्षक अब मरीजों को सीखा रहे योग के गुर


कोरोना पॉजिटिव मरीजों का मनोबल एवं आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए शिक्षक दिनेश वैष्णव करा रहे योग



केकड़ी। कोरोना महामारी के बीच केकड़ी के युवा शिक्षक की सकारात्मक पहल देखने को मिल रही है। विश्वभर में एक तरफ कोरोना महामारी लगातार बढ़ रही है, वही केकड़ी के अजमेर रोड़ स्थित कटारिया ग्रीन्स में बनाए गए कोविड केयर सेंटर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों को शिक्षक दिनेश वैष्णव खुद संक्रमित होने के बावजूद शारीरिक दूरी का पालन करते हुए योग एवं व्यायाम करवा रहे है ताकि कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों का मनोबल और आत्मविश्वास बढ़ें। अपने विद्यालय में नित नए नवाचार करने वाले शिक्षक वैष्णव कोरोना पॉजिटिव मरीजों को स्वस्थ बनाने में भी अहम भूमिका निभा रहे है।


पिछले दिनों उनकी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई तो उन्हें अजमेर रोड़ स्थित कटारिया ग्रीन में बने कोविड केयर सेंटर में संस्थागत क्वारंटाइन किया गया। यहां रहते हुए वे अब अन्य कोरोना पॉजिटिव मरीजों को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत करने का जतन कर रहे है।

इस अवसर पर डॉ.विष्णु प्रसाद ने भी सभी को तनाव मुक्त रहने के लिए विभिन्न योग, प्राणायाम व अन्य वैकल्पिक गतिविधियों के माध्यम से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुर बताए।


शिक्षक वैष्णव ने बताया कि वे प्रतिदिन यहां योग और व्यायाम कर रहे है और खूब पसीना बहा रहे है, जिससे सभी शीघ्र स्वस्थ होकर अपने-अपने घरों में जा सकें। सभी एक-दूसरे का हौंसला बढ़ा रहे है। कोरोना की चपेट में आकर डिप्रेशन में चल रहे कुछ साथी मरीजों की मानसिक स्थिति को मजबूत करने के लिए कोविड केयर सेंटर में कुछ खेल भी खिला रहे है।


सोमवार को योग करने के पश्चात डॉ.विष्णु प्रसाद के नेतृत्व में हिन्दी दिवस भी मनाया गया। डॉ.विष्णु प्रसाद ने सभी को कोविड सेंटर में रहते हुए इस समय का सदुपयोग कर लिखी स्वरचित कविता "हिन्दी हिंदुस्तान की" भी सुनाई और हिन्दी के उद्भव और विकास यात्रा का विवरण देते हुए राजभाषा हिन्दी की वर्तमान स्थिति के बारे में बताया। उन्होंने सभी को हिन्दी के अधिकाधिक प्रयोग के लिए प्रेरित किया।


इस अवसर पर जगदीप सिंह काण्दलोत एवं रामेश्वर वैष्णव ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस दौरान रमेश चन्द छीपा, अशोक कुमार लखारा, भारत कुमार नैणा, जय सिंह खेरथला, मोहनलाल गोधा, गौरीशंकर खटीक, राजू जांगिड़, प्रकाश कुमार जांगिड़, मनीष कुमार बैरवा, नरेश बैरवा व मुकेश बैरवा आदि उपस्थित थे।


Post a Comment

0 Comments