कैनविन संस्था का हर कदम पर प्रशासन को सहयोग देने का वायदा



-कैनविन फाउंडेशन ने 100 लोगों से कराया प्लाज्मा डोनेट

-जिला प्रशासन के साथ मिलकर किया प्लाज्मा डोनर्स को सम्मानित


गुरुग्राम। चिकित्सा के क्षेत्र में अग्रणी सामाजिक संस्था कैनविन फाउंडेशन ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए 100 लोगों का प्लाज्मा डोनेट कराकर एक कीर्तिमान स्थापित किया है। इसी कड़ी में बुधवार को यहां रोटरी ब्लड एवं प्लाज्मा बैंक परिसर में जिला प्रशासन के साथ मिलकर फाउंडेशन ने कार्यक्रम आयोजित किया। इस मौके पर जिला उपायुक्त अमित खत्री, सिविल सर्जन डा. विरेंद्र यादव, उप-सिविल सर्जन डा. अनुज गर्ग, रेडक्रॉस सोसायटी की चेयरपर्सन एवं गुरूजल प्रोजेक्ट की प्रोग्राम मैनेजर शुभि, कैनविन के संस्थापक डीपी गोयल, सह-संस्थापक नवीन गोयल मौजूद रहे। 


जिला उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि कोरोना महामारी में कैनविन फाउंडेशन समेत अनेक सामाजिक संस्थाओं ने दिन-रात काम किया है। उन्होंने कैनविन द्वारा डोनेट करवाए जा रहे प्लाज्मा को लेकर प्रमुखता से कहा कि रक्त और कोरोना में यह कहा जा सकता है कि रक्त शायद जान बचा सकता हो, लेकिन प्लाज्मा कोरोना संक्रमित की जान बचाता है। यहां प्लाज्मा बैंक बनने के बाद कैनविन, लायंस, रोटरी क्लब समेत अनेक संस्थाओं इसमें जान डाली और प्लाज्मा डोनेट कराए हैं। कार्यक्रम में जिला उपायुक्त व सिविल सर्जन की ओर से सबसे पहले प्लाज्मा डोनर कृष्ण मुरारी समेत कई डोनर्स को सम्मानित किया गया। 


सिविल सर्जन डा. विरेंद्र यादव ने कहा कि कोरोना से ठीक होने के बाद सबसे पहले और अधिक काम गुरुग्राम ने ही किए हैं। सबसे अधिक प्लाज्मा डोनेट यहीं पर हुए हैं। चार जिलों में प्लाज्मा बैंक खुले, जिसमें गुरुग्राम में सबसे पहला प्लाज्मा डोनेट हुआ। सबसे अधिक डोनेशन भी यहीं पर हुए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि यह संख्या बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने जनता को जागरुक करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने वालों में अगर कोई लक्षण दिखाई दें तो तुरंत जांच की जरूरत है। नहीं तो फिर उन्हें अगले 5-7 दिनों में सेंपल जांच कराने की जरूरत होती है। उन्होंने फिलहाल कोरोना की वैक्सीन मास्क, सामाजिक दूसरी को बताया। सिविल सर्जन ने यह भी कहा कि जिला प्रशासन के पास तैयारी पूरी है। अगर मरीज बढ़ते भी हैं तो बेडों की संख्या पर्याप्त है। हालांकि अब तक 20 हजार कोरोना के केसों में से मात्र 5 प्रतिशत ही अस्पतालों में भर्ती हो पाए हैं।


कैनविन का उद्देश्य जन-जन को स्वस्थ रखना: डीपी गोयल  

कार्यक्रम में कैनविन फाउंडेशन के संस्थापक डीपी गोयल ने संस्था की स्थापना का उद्देश्य बताने के साथ कैनविन द्वारा अब तक किए गए कार्यों का जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग के समक्ष विस्तार से ब्यौरा दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में संस्था आम आदमी को पांच सितारा अस्पतालों के भारी-भरकम बिलों में छूट दिलाने का लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में अभी भी चिकित्सा के क्षेत्र में विश्वसनीयता की जरूरत है। मात्र 1 अस्पताल के साथ अनुबंध की शुरुआत के साथ अब कैनविन का गुरुग्राम के 53 बड़े अस्पतालों से अनुबंध हो चुका है और लोगों को राहत दिलवाई जा रही है। स्वास्थ्य को लेकर उन्होंने कहा कि भौतिकतावाद में हम खुद की सेहत को भूल रहे हैं। जबकि सबसे जरूरी सेहत ही है। 


प्लाज्मा डोनेशन को बनाया मिशन: नवीन गोयल

कैनविन फाउंडेशन के सह-संस्थापक नवीन गोयल ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच प्लाज्मा डोनेशन को लेकर सबसे पहला काम लोगों को जागरुक करना रहा है। मीडिया, सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों से संस्था ने प्रशासन के साथ मिलकर जागरुकता अभियान भी चलाया। साथ ही कोरोना जांच कैंप में प्रशासन का सहयोग दिया। प्लाज्मा डोनेट कराने को लेकर लोगों को समझाना कठिन काम था, फिर भी संस्था के वॉलंटियर्स ने लोगों को समझाकर इसके लिए तैयार किया। एक मिशन के रूप में प्लाज्मा डोनेशन को लेकर काम किया और अब तक कुल 167 प्लाज्मा में से 100 प्लाज्मा कैनविन फाउंडेशन ने डोनेट कराए हैं। आगामी दिन में जल्द ही इस आंकड़े को 200 के पार करने की बात उन्होंने कही। प्लाज्मा डोनेट कराने को संस्था की ओर से पिक एंड ड्रॉप की सुविधा भी दी जा रही है। नवीन गोयल ने कहा कि हमारे जीवन में पहली बार इतनी बड़ी महामारी आई है, जो कि पूरे विश्व में फैली है। इससे बहुत कुछ सीखने की जरूरत है। उन्होंने प्लाज्मा डोनर्स को भगवान के देवदूत की संज्ञा देकर कहा कि बहुत से डोनर्स ने तो 2 से 4 बार भी प्लाज्मा डोनेट किया है। उन्होंने जिला प्रशासन से इस बात का भी वायदा किया कि किसी भी क्षेत्र में संस्था को कोई जिम्मेदारी दी जाती है तो वे पूरी निष्ठा के साथ उस पर काम करेंगे। 


मंच संचालन कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता अभय जैन एडवोकेट ने कहा कि लोगों के बीच से कोरोना का भय निकालना भी जरूरी था। क्योंकि लोगों को मानसिक आघात हो रहा था। संस्था के लोगों को डॉक्टर्स के माध्यम से कॉल कराकर उन्हें हौंसला दिलाया गया। ताकि वे मानसिक रूप से मजबूत रहें। कोरोना से लड़ाई लड़ सकें। कार्यक्रम में रोटरी ब्लड बैंक के असिस्टेंट गवर्नर रविंद्र जैन, सेक्टर-10 आरडब्ल्यूए के प्रधान कमांडर उदयवीर यादव, टीसी अग्रवाल, ताराचंद, एससी गोयल, बलबीर सिंह, सतीश तायल, बीजेपी जिला कोषाध्यक्ष प्रवीण अग्रवाल, जिला सचिव राजेश गुलिया, एक आवाज संस्था से अमित गोयल, हाउसिंग बोर्ड प्रधान प्रशांत सिंह, युवा भाजपा नेता गगन गोयल समेत काफी संख्या में सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments