गलत बिल देने पर बिजली विभाग को अदालत ने लताड़ा व 5000₹ जुर्माना लगाया

 


बागपत : एडवोकेट कुलदीप जी ने बताया ये मामला विद्युत विभाग  PVVNL से था इन्होंने क्या किया था जो पुराने मीटर को उतारकर नए डिजिटल मीटर लगा दिए थे तो नए मीटर में एक एक माह में 5433/- रीडिंग और ₹ 37910 /-  का बिल दे दिया था।  प्राथी जयनंद बहुत परेशान था वो फिर मेरे पास आया उसने मुझको सारी बाते विस्तार पूर्वक कहा फिर मने SDO बागपत से बात की और कोई बात नही बनी फिर मैने S.E.  से बात की लेकिन कोई बात नही बनी तो फिर आखरी में मैने अधिवक्त कुलदीप कुमार ने एक लीगल नोटिस PVVNL बागपत sdo और SE और अन्य 5 को भजे दिया था। नोटिस का कोई जवाब नही आया तो मैने उपभोक्ता फोरम बागपत में एक वाद दायर कर दिए था जो की जिसकी संख्या 15/2017 थी।  ये केस बहुत ही अधिक समय तक चला इसमें मने लिखित बहस भी की थी विधुत डिपार्टमेंट बाग़पत और आदि द्वारा कोई भी प्रमाणित प्रूफ नही दे पाया की इतनी रेडिंग मीटर ने कैसे दी। और केस को लंबा खीचने की तैयारी में थे। श्रीमान अध्यक्ष महोदय उपभोगता फोरम बागपत के दिनाँक 17.10.2020 को अपना निर्णय दिया जो की उपभोगता जयनंद के फेवर में आया है। और विधुत डिपार्टमेंट को ₹ 5000/- का अर्थदंड भी लगाया है। और प्राथी के बिल को सही करने के लिए एक माह का समय भी दिया है।

और इससे जिले में हो रहे विधुत विभाग द्वारा जोे उत्पीडन जनता को हो रहा है उससे आम जनता को बहुत आराम मिलेगा यह एक नज़ीर बनाने में सार्थक हो सकता है।

Post a Comment

0 Comments