बिजली निगम अग्रिम खपत जमा की समीक्षा करेगा

बिजली निगम अग्रिम खपत जमा की समीक्षा करेगा



हरियाणा बिजली नियामक आयोग (एचईआरसी/HERC) के निर्देशानुसार सभी सक्रिय बिजली उपभोक्ताओं को वित्तीय वर्ष में दो औसत बिलिंग चक्र के बराबर अग्रिम सुरक्षा राशि (एसीडी) रखना अनिवार्य है।

इसके तहत दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन/DHBVN) के लिए यह अनिवार्य है कि वह सभी सक्रिय बिजली उपभोक्ताओं की उनके पिछले वित्तीय वर्ष की औसत बिलिंग के आधार पर उनके द्वारा जमा की गई अग्रिम खपत जमा (एसीडी) की समीक्षा करे और इसे सुनिश्चित करे। वित्तीय वर्ष 2020-21 में कोविड 19, कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण बिजली निगम द्वारा बिजली उपभोक्ताओं की अग्रिम खपत जमा की समीक्षा स्थगित कर दी गई थी। जिसे एचईआरसी के निर्देशों के अनुसार 24 मार्च 2021 से प्रभावी बनाया गया है। एचईआरसी के मानदण्डों को ध्यान में रखते हुए उपरोक्त समीक्षा राशि को उपभोक्ताओं के खाते में दो किस्तों में चार्ज या वापस किया जा रहा है।

दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा एसएमएस के माध्यम से भी सभी उपभोक्ताओं को इस सूचना से अवगत कराया जा रहा है। इस संबंध में, हाल ही में यह देखा गया है कि कुछ उपभोक्ताओं को स्पॉट बिल और ऑनलाइन उपलब्ध बिल में दिखाए गई अलग-अलग राशि के कारण अपने ऊर्जा बिलों का भुगतान करने में कठिनाई का सामना करना पड़ा है। यह इस तथ्य के कारण हुआ है कि ऐसे उपभोक्ताओं की बिलिंग प्रक्रिया 24 मार्च 21 से पहले आईटी प्रणाली में चल रही थी यानी एसीडी समीक्षा प्रक्रिया शुरू होने से पहले की स्थिति थी। 24 मार्च 21 के बाद शुरू किए गए सभी बिलिंग बाइंडरों में ऐसी कोई बिलिंग विसंगति नहीं होगी।

इस संबंध में उपभोक्ताओं को हुई असुविधा का हमें खेद है।

हम आपके सहयोग की अपेक्षा करते हैं और आपके द्वारा  बिजली बिल के समय से भुगतान की आशा करते हैं।

अधिकतम जानकारी के लिए उपभोक्ता अपने निकटतम बिजली कार्यालय में भी संपर्क कर सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments