नगर निगम गुरूग्राम ने संभाली ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन की जिम्मेदारी

 नगर निगम गुरूग्राम ने संभाली ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन की जिम्मेदारी



- निगमायुक्त विनय प्रताप सिंह ने अधिकारियों के साथ बैठक करके जिला में लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन बारे दिए दिशा-निर्देश

गुरूग्राम, 22 अप्रैल। गुरूग्राम में लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन की जिम्मेदारी नगर निगम गुरूग्राम ने संभाली है। इसके लिए एक कॉल सैंटर रहेगा, जो सप्ताह के सातों दिन 24 घंटे कार्य करेगा तथा आपूर्ति प्रबंधन कार्य के लिए टीमों का भी गठन किया जाएगा।

इस बारे में नगर निगम गुरूग्राम के आयुक्त विनय प्रताप  सिंह ने मंगलवार को नगर निगम अधिकारियों के साथ बैठक की तथा ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा गुरूग्राम को 35 मीट्रिक टन प्रतिदिन के हिसाब से लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन का आवंटन किया गया है। इसमें 20 मीट्रिक टन आईनॉक्स कंपनी भिवाड़ी राजस्थान से तथा 15 मीट्रिक टन एयर लिक्विड कंपनी पानीपत से मिल रही है। उन्होंने कहा कि आईनॉक्स भिवाड़ी से आने वाली 20 मीट्रिक टन लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन कंपनी द्वारा स्वयं के टैंकरों से प्रतिदिन भिजवाई जाएगी। यह गुरूग्राम के उन अस्पतालों में वितरित होगी, जिनके यहां अपने ऑक्सीजन टैंक हैं। इनमें मेदांता, फोर्टिस, आर्टिमिस, मैैक्स, पार्क, मैट्रो सहित अन्य अस्पताल शामिल हैं। अगर इसकी आपूर्ति में कंपनी के वाहनों की कमी आती है, तो अन्य गाडिय़ों को भी इसके लिए लगाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन अस्पतालों का भी आवंटन निर्धारित किया गया है।

निगमायुक्त ने कहा कि एयर लिक्विड कंपनी से आवंटित की गई 15 मीट्रिक टन लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन को लाने के लिए प्रशासन द्वारा टैंकरों की व्यवस्था रहेगी। ये टैंकर पानीपत से ऑक्सीजन लेकर गुरूग्राम के तीन गैस रिफलिंग स्टेशनों तक आएंगे। इनमें मानेसर स्थित स्टार गैसिज व मैक्सकेयर तथा सैक्टर-16 स्थित जीके इंडस्ट्रीज के गैस रिफलिंग स्टेशन शामिल हैं। इन रिफलिंग स्टेशनों से उन अस्पतालों में सिलेंडर के जरिए ऑक्सीजन का वितरण होगा, जिनमें ऑक्सीजन टैंक नहीं हैं। इन स्टेशनों से व्यक्तिगत वितरण की व्यवस्था भी रहेगी। निगमायुक्त ने कहा कि लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन आपूर्ति प्रबंधन के लिए नगर निगम गुरूग्राम की टीमें होंगी, जो पानीपत, भिवाड़ी सहित गुरूग्राम जिला के तीनों गैस रिफलिंग स्टेशनों पर जिम्मेदारी संभालेंगी।

निगमायुक्त ने कहा कि लिक्विड मैडीकल ऑक्सीजन की आपूर्ति एवं वितरण समय पर किया जाएगा, ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी ना हो। उन्होंने कहा कि इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा। बैठक में संयुक्त आयुक्त (स्वच्छ भारत मिशन) धीरज कुमार, एसई विजय ढ़ाका, जिला ड्रग कंट्रोल अधिकारी अमनदीप चौहान, एटीपी सिद्धार्थ खंडेलवाल सहित सहायक अभियंता अजय शर्मा, प्रेमसिंह व पवन कुमार उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments