किसानों को आठवीं किश्त व डीएपी सब्सिडी से सरकार ने दी राहत: नवीन गोयल

 किसानों को आठवीं किश्त व डीएपी सब्सिडी से सरकार ने दी राहत: नवीन गोयल

-सरकार की मंशा देश के किसानों के हित की है

-किसी के बहकावे में न आएं किसान



गुरुग्राम। भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता नवीन गोयल ने केंद्र सरकार द्वारा किसानों के हित में किए जा रहे कार्यों पर कहा कि सरकार की मंशा साफ है। सरकार देश के किसानों और आम जनता को कोरोना महामारी में भी किसी न  किसी तरीके से राहत देने का काम कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किसानों के खातों में आठवीं किश्त के रूप में 2000 रुपए और डीएपी खाद पर सब्सिडी देकर बहुत बड़ी राहत दी है। 

नवीन गोयल ने कहा कि कुछ तथिकथित किसानों ने जिस तरह से हिसार में उपद्रव किया, वह उनकी बौखलाहट का नतीजा है, जबकि देश का असली किसान खुश है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार की योजनाओं का लाभ ले रहा है। उन्होंने बताया कि सरकार अब तक 8 किश्तों में किसानों को प्रति किसान 16 हजार रुपए दे चुकी है। इस तरह देशभर में 9.5 करोड़ किसानों के खाते में यह रकम पहुंच चुकी है। नवीन गोयल ने कहा कि केंद्र सरकार ने खाद पर सब्सिडी देकर ऐतिहासिक काम किया है। इससे विरोधियों के पास कुछ बोलने को नहीं रहा। अब डीएपी खाद की हर बोरी पर 1200 रुपये की सब्सिडी मिल रही है। किसानों के लिए यह बड़ी राहत है और देश-प्रदेश के किसान खुश हैं। किसानों ने भी माना है कि सरकार का यह निर्णय उनके हित में है। नवीन गोयल ने कहा कि खरीफ की  फसल में यूरिया से ज्यादा डीएपी खादों की जरूरत पड़ती है। इस साल डीएपी की एक बोरी की कीमत 2400 तक पहुंच गई। सब्सिडी के बाद किसानों को यह 1900 रुपये की मिल रही थी। जिस पर सरकार ने 1200 रुपये की सब्सिडी दी और यह पुराने रेट पर ही मिलेगी। किसानों का एक रुपया भी ज्यादा नहीं लगेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से दुनिया भर में आवागमन बाधित हुआ है। इसका असर खाद के बाजार पर भी पड़ा है। इस समय जो भी चीज बाहर से आयात करनी पड़ती है वो मंहगी हो रही है।

Post a Comment

0 Comments