गुुरुग्राम में समर्पण भाव से काम कर रही कैनविन फाउंडेशन

 गुुरुग्राम में समर्पण भाव से काम कर रही कैनविन फाउंडेशन



-कोरोना की दूसरी लहर में अनेक चुनौतियों के बीच डटे हैं संस्था के सदस्य

-कई विषयों पर जमीनी स्तर पर काम करके लोगों को दे रहे सुविधाएं

-कैनविन फाउंडेशन द्वारा दिया गया अपने कार्यों का ब्यौरा


गुरुग्राम। स्वास्थ्य के क्षेत्र में गुरुग्राम की जनता को समर्पित है कैनविन फाउंडेशन। कोरोना महामारी के दौरान संस्था द्वारा किए गए अविस्मरणीय कार्यों को हर कोई सराह रहा है। चाहे आम हो या खास, हर किसी व्यक्ति की मदद को कैनविन फाउंडेशन के हाथ सदा बढ़े हैं। चाहे वर्ष 2020 में हो या अब 2021 में कोरोना की दूसरी लहर हो, संस्था के अनुभवी, मेहनती और समर्पित सदस्य दिन-रात जनसेवा में जुटे हैं। 


कैनविन फाउंडेशन के सह-संस्थापक एवं भाजपा युवा नेता नवीन गोयल का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी ने सेवा ही संगठन कार्यक्रम चलाया हुआ है। इस कार्यक्रम को उन्होंने पार्टी का कार्यकर्ता होने के नाते अपनी संस्था में पूरी तरह से अमलीजामा पहनाया है। कोरोना की दूसरी लहर में संस्था के कार्यों का ब्यौरा देते हुए नवीन गोयल ने बताया कि दूसरी लहर में अब तक 150 लोगों को एम्बुलेंस सुविधा दी गई है। इसके अलावा 9000 लोगों को ऑनलाइन कंसलटेंसी (रोजाना 300 लोगों को), प्रशासन की मदद से बाहर से 200 ऑक्सीजन सिलेंडर मंगवाकर जरूरतमंदों को दिए हैं। वहीं 1128 लोगों का कोविड टेस्ट करवाया और इस लहर में 195 लोगों को प्लाज्मा उपलब्ध कराया। शुरू से अब तक 325 लोगों से प्लाज्मा डोनेट करवाया जा चुका है। करीब 450 लोगों को बेड उपलब्ध कराए हैं। 


नवीन गोयल के मुताबिक कैनविन फाउंडेशन की ओर से सेक्टर-38 में 36 बेड का कोविड सेंटर जिला प्रशासन की अनुमति से बनाया गया है। संस्था के पॉलिक्लीनिक में 123 लोगों को निशुल्क कंसलटेंसी दी गई है। बाजार रेट पर 200 लोगों को फ्लू की गोलियां उपलब्ध कराई हैं। साथ ही वैक्सीनेशन में भी संस्था सहयोग कर रही है। संस्था में 35 सदस्यों की टीम कोरोना महामारी में लोगों को सुविधाएं उपलब्ध कराने में जुटी है। संदीप शर्मा के नेतृत्व में 15 सदस्यों की टीम प्लाज्मा डोनेशन पर काम कर रही है, वहीं डा. शरद, अनुज मलिक, सुमित व चंदन बेड अरेंज कराने पर काम कर रहे हैं। बाकी 16 लोगों की कार्यालय से संचालन कर रही है। संस्था द्वारा समय-समय पर वेबीनार, फेसबुक लाइव कार्यक्रम करके लोगों को जागरुक भी किया जा रहा है। बीमारी से बेहतरी से निपटने पर मंथन भी किया गया है।

Post a Comment

0 Comments