सृष्टि गुलाटी की मेहनत ला रही रंग, मिला वर्ल्ड रिकॉर्ड का संग

 मेहनत रंग लाएगी। मेहनत रंग लाती हैं। 

फरीदाबाद। प्रवीन गुलाटी। आज इसी कहावत को चरितार्थ कर दिखाया हैं नन्ही सृष्टि गुलाटी ने। छोटी उम्र में ही काफी नाम कमाया है सृष्टि ने। बड़ो-बड़ो के साथ लिया जाने लगा सृष्टि गुलाटी का नाम। हम बात कर रहे है फरीदाबाद हरियाणा निवासी प्रवीन एवम प्रिया गुलाटी की पांच वर्षीय बच्ची की। जी हां नन्ही उम्र में ही इस गुड़िया ने पूरे देश मे अपने नाम का डंका बजाया है। दो साल पहले सृष्टि गुलाटी का नाम ओ. एम.जी. बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था आज वह रिकॉर्ड बुक नन्ही परी को उसके घर पर प्राप्त हुई। दो साल पहले दर्ज हुए रिकॉर्ड को आज साक्षात रूप मिल गया पुस्तक रिकॉर्ड बुक ,,के रूप में। 2021 में प्रकाशित होने के बाद आज सृष्टि गुलाटी को ये पुस्तक( रिकॉर्ड बुक) प्राप्त हुई। इस अवसर पर माता पिता काफी खुश दिखाई दिए। डी. सी. मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर 9 फरीदाबाद की यू.के.जी कक्षा में पड़ने वाली सृष्टि ने अपने स्कूल का नही अपितु अपने माता-पिता और शहर का नाम भी रोशन किया है। 



पिता प्रवीन का कहना ही कि बेटी द्वारा किए गए कार्य को आज सही मायनों में मूर्त रूप मिल गया। सृष्टि गुलाटी की इस उपलब्धि पर उसके विद्यालय में भी हर्ष का माहौल है। सृष्टि की अध्यापिका रीना भटनागर ने कहा कि कम उम्र में इस तरह का कार्य करना हर किसी के बस की बात नही है। हमे खुशी है कि ऐसी होनहार बेटी हमारे स्कूल में पढ़ती है। इस रिकॉर्ड बुक में सृष्टि गुलाटी का नाम सबसे कम उम्र में सबसे ज्यादा प्रमाण पत्र प्राप्त करने के कारण दर्ज हुआ था। सृष्टि गुलाटी द्वारा नृत्य, चित्रकला, फैशन शो, रैंप वॉक, कविता, गायत्रीमंत्र उच्चारण, बेबी शो आदि कई सारे कार्यक्रम में भाग लेने पर सारे प्रमाण पत्र प्राप्त हुए है। इन सभी के परिणाम स्वरूप सृष्टि गुलाटी का यह राष्ट्रीय रिकॉर्ड बना है। माता प्रिया गुलाटी ने कहा कि हमे बेटी पर गर्व है। आशा है सृष्टि आगे भी क़ामयाबी की सीढ़ियां चढ़ती रहे। इस समय सृष्टि गुलाटी का नाम 23 वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में दर्ज है।   वर्तमान में सृष्टि गुलाटी के नाम 470 से भी ज्यादा प्रमाण पत्र, 70 अवॉर्ड, 31 ट्रॉफी ओर 31 मेडल है।



Post a Comment

0 Comments