सुहागिन महिलाएं यह व्रत पति की लंबी उम्र और संतान प्राप्ति के लिए रखती है: सुंदरी खत्री

 उतराखण्ड की बहनों के साथ मनाई वट सावित्री व्रत की पूजा -सुन्दरी खत्री - बीजेपी महिला मोर्च अध्यक्ष गुरुग्राम  

– सुन्दरी खत्री ने कहा कि आज वट सावित्री वर्त के शुभ अवसर पर उतराखण्ड की बहनों के साथ पूजा मे शामिल होने का सौभाग्य मिला।

 


गुरुग्राम, 10 जून 2021 , वट सावित्री व्रत के दिन पूरे उत्तर भारत में सुहागिनें 16 श्रृंगार करके बरगद के पेड़ के चारों ओर फेरे लगाकर अपने पति के दीर्घायु होने की प्रार्थना करती हैं। प्यार, श्रद्धा और समर्पण का यह व्रत सच्चे और पवित्र प्रेम की कहानी कहता है। आपको बता दें कि ऐसी मान्यता है कि इसी दिन मां सावित्री ने यमराज के फंदे से अपने पति सत्यवान के प्राणों की रक्षा की थी। भारतीय धर्म में वट सावित्री पूजा स्त्रियों का महत्वपूर्ण पर्व है, जिसे करने से हमेशा अखंड सौभाग्यवती रहने का आशीष प्राप्त होता है। 

सुन्दरी खत्री ने कहा कि सुहागिन महिलाएं यह व्रत पति की लंबी उम्र और संतान प्राप्ति के लिए रखती है. इस व्रत का महत्त्व करवा चौथ जैसा होता है. यह स्ति्रयों का महत्वपूर्ण व्रत है। इस दिन सत्यवान सावित्री तथा यमराज की पूजा की जाती है। सावित्री ने इसी व्रत के प्रभाव से अपने मृतक पति सत्यवान को धर्मराज के पाश से छुड़ाया था।

सीमा बिष्ट ने कहा कि पिछले कई वर्षों से हम सभी महिला एकत्रित होकर मंदिर मे पूजा करती थी,लेकिन कोरोना की वजह से इस बार हम ने घर पर बरगद का पेड़ लगाकर पूजा की है ! और ईस्वर से पार्थना की है जल्द से जल्द इस कोरोना को ख़तम कर दें और संसार में खुशी का माहौल हो सके !

इस पावन पूजा के अवसर पर ,पिंकी,किरन,ममता ,मालिनी बहनें उपस्थित थीं।

Post a Comment

0 Comments