देश की सेवा करने के लिए समाज के लोगों को संघ की शाखा में जाना होगा:पंकज पाठक

 देश के लिए ही जीना और मरना भी सिखाता है संघ : पंकज पाठक - स्वयंसेवक संघ के साथ 16 वर्ष हुए पूरे    



- आरएसएस हरियाणा के संघ चालक पवन जिंदल जी एवं प्रदीप शर्मा जी का किया धन्यवाद !

गुरुग्राम, 12, जून  2021, में पिछले 16 वर्षों से संघ से जुड़ा हुआ हूँ और संघ से ही मैंने सीखा है कि सच में देश सेवा कैसे हम मिलकर कर सकते है, संघ के नियमों का पालन करते हुए ही मैंने अपनी सोसाइटी का नाम भी भगवान् श्रीराम के नाम से ही "श्रीराम सोसाइटी" रखा है! जो भी समाज सेवा में करता हूँ संघ एवं श्रीराम सोसाइटी के नाम से ही करता हूँ ! क्योंकि संघ ही नहीं बल्कि हमारे शास्त्रों में भी यही लिखा है ,हम कोन होते हैं सेवा करने वाले हम सिर्फ एक जरिया है,सच तो यह है कि जब तक आपके ऊपर उस ईश्वर की कृपा नहीं होगी आप कुछ नहीं कर सकते !

संघ हिंदू समाज को देशभक्ति का पाठ पढ़ाता है, देश के लिए जीना व मरना भी सिखाता है और भारत पर आने वाले संकटों से लड़ना भी सिखाता है। राष्ट्र सेवा और हिंदू समाज को संगठित करने का कार्य संघ तब तक करता रहेगा, जब तक देश परम वैभवशाली न बन जाए। पंकज पाठक ने कहा कि- देश की सेवा करने के लिए समाज के लोगों को संघ की शाखा में जाना होगा। इसमें शारीरिक व्यायाम, खेल, देशभक्ति गीत, विविध राष्ट्र हित के विषयों पर चर्चा, ... आरएसएस तो हमेशा ही देश के लिए काम करता रहा है. 1962 और ... थॉमस ने कहा, 'उन्हें लगता है कि संघ अपने कार्यकर्ताओं को देश की सुरक्षा के लिए अनुशासन सिखाता है.' जानकारों का कहना है कि इन बयानों के पीछे सिर्फ संघ की शक्ति है.

1962 में भारत पर चीन ने आक्रमण किया उस समय संघ के स्वयंसेवकोंं ने भारतीय सेना के साथ खड़े होकर देश की सेवा में अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया। अनेक स्वयंसेवक देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए। इस कार्य के लिए सरकार से कोई इनाम या प्रशंसा पत्र भी नहीं लिया था। संघ के इस देशभक्ति पूर्ण कार्य से प्रभावित होकर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री प. जवाहरलाल नेहरू ने 26 जनवरी पर दिल्ली के लाल परेड पर होने वाली सेना की परेड में भारतीय जवानों के साथ भाग लेने के लिए संघ के स्वयंसेवको को भी बुलाया था।

पंकज पाठक ने कहा , आठ वर्षों से में गुरुग्राम में रह रहा हूँ और आरएसएस हरियाणा के संघ चालक पवन जिंदल जी एवं प्रदीप शर्मा जी के द्वारा जो भी निर्देश मुझे मिलता है उसका पालन करते हुए देश की सेवा कर रहा हूँ और मुझे इस बात का बहुत गर्व है कि हमारे संघ चालक पवन जिंदल जी एवं प्रदीप शर्मा जी मुझे अपने परिवार का सदस्य मानते हैं और समय समय पर मेरे परिवार का हाल चाल भी लेते रहते हैं में उनका अपने तहे दिल से बारम्बार धन्यवाद करता हूँ !

Post a Comment

0 Comments