दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम निरन्तर प्रगति के पथ पर अग्रसर



गुरुग्राम, अजेयभारत टीम

1 जुलाई 1999 को अस्तित्व में आने के बाद दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के समक्ष चुनौतियों का अम्बार था। लेकिन निगम के कुशल प्रबन्धन व कर्मचारियों की कर्तव्यपरायणता के कारण निगम आज अन्य वितरण निगमों से बहुत अधिक बेहतर स्थिति में है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने प्रदेश के औद्योगिक और कृषि क्षेत्र के क्रांतिकारी विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है, यह तथ्य इससे भी स्पष्ट है कि दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के तहत बिजली की मांग व राजस्व लगातार बढ़ रहा है। दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा अपनी स्थापना से अब तक 22 वर्षों में उपभोक्ता सेवाओं को अधिक से अधिक बेहतर बनाते हुए निम्नलिखित उपलब्धियां प्राप्त की :

 निगम जब अस्तित्व में आया, तब विभिन्न श्रेणियों के 15.58 लाख उपभोक्ता थे, जिनका लोड 3733.23 मैगावाट था। अब वर्तमान में 38.22 लाख उपभोक्ता हैं, जिनका लोड 18346.02 मैगावाट है। बढ़े हुए उपभोक्ताओं के दृष्टिगत दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने बिजली वितरण प्रणाली का सुदृढीकरण किया। इसके तहत 33 के.वी. स्तर के 290 नए सब-स्टेशनों का निर्माण किया गया, जिसके परिणामस्वरूप 33 के.वी. स्तर के सब-स्टेशनों की संख्या बढ़कर 406 हो गई है। इसके अतिरिक्त 33 के.वी. स्तर के 272 सब-स्टेशनों की क्षमता में बढ़ोतरी भी की है, जिससे प्रणाली में 5416.90 एम.वी.ए. क्षमता की बढ़ोतरी हुई । दक्षिण हरियाणा विजली वितरण निगम की स्थापना के समय वार्षिक टर्न ओवर लगभग 940.39 करोड़ रूपये था, जो कि वर्तमान में लगभग 16102.14 करोड़ रूपये है। निगम पहले जो घाटे में चल रहा था, अब निरन्तर पिछले पांच वर्षों से लाभ की स्थिति में है। निगम की शुरूआत में दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के तहत आने वाले क्षेत्रों के लिए लगभग 6488.22 लाख यूनिट प्रतिमाह उपलब्ध थी, जो वर्तमान में बढ़कर प्रतिमाह 23764.60 लाख हो गई है। बिजली की बढ़ती खपत राज्य की उन्नति और राजस्व बढ़ाने में अभूतपूर्व योगदान दर्शाती है। वर्ष 2001-2002 में ट्रांसमिशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन (टी.एंड डी.) लॉसिस 33.86 प्रतिशत और एग्रीगेट टेक्नीकल एंड कमर्शियल (ए. टी. एंड सी.) लॉसिस 39.07 प्रतिशत थे । निगम के अभूतपूर्व प्रयासों के परिणामस्वरूप वर्तमान में टी.एंड डी. लॉसिज 14.87 प्रतिशत और ए.टी.एंड सी लॉसिज 13.63 प्रतिशत आ गए हैं, जो अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। यहां यह बताना भी उचित होगा कि निगम के अस्तित्व के बाद ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं को लगभग 8 घंटे बिजली आपूर्ति मिलती थी, जबकि वर्तमान में 2272 गांवों को 24 घंटे और 1377 गांवों को 16 घंटे बिजली आपूर्ति दी जा रही है। दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम शेष गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति प्रदान करने के लिए प्रयासरत है। उपभोक्ता सेवा में सुधार करने और पूरी पारदर्शिता के साथ कार्य करने के लिए के लिए निगम द्वारा उपभोक्ताओं के हित में निम्नलिखित ऑनलाइन सेवाएं शुरू की गई हैं:

1. उपभोक्ताओं की बिजली सम्बन्धित शिकायतों को दर्ज करवाने के लिए टोल फ्री नम्बर 1912 व 1800-180-4334 जारी किए गए हैं। 

2. अब उपभोक्ताओं की सुविधाओं के लिए दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा नए कनैक्शन जारी करने के लिए ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया गया है । आवेदक निगम की वैबसाइट www.dhbvn.org.in पर जाकर नए कनैक्शन, लोड बढ़वाने, लोड घटवाने जैसी सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कनैक्शन प्रक्रिया अति सरल हो गई है और अब नए कनैक्शन के लिए आवेदक को निगम के कार्यालय में जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। 

3. निगम ने अपने बिजली उपभोक्ता को दी जाने वाली सेवाओं को अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए ट्रस्ट रीडिंग की शुरूआत की है। 

4. अब ऊर्जा मित्र ऐप के माध्यम से उपभोक्ता के पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर एस.एम.एस. के द्वारा बिजली शैड्यूल के बारे में जानकारी दी जाती है। अब तक ऊर्जा मित्र ऐप का उपयोग करते हुए उपभोक्ताओं को 25.70 करोड़ मैसेज प्रसारित किए गए हैं। 

5. निगम ने बिलिंग प्रक्रिया में सुधार , बिलिंग सम्बन्धित समस्याओं के समाधान और उपभोक्ता संतुष्टि हेतु अक्टूबर, 2018 में कमर्शियल बैक ऑफिस स्थापित किया है। 

6. निगम ने स्पॉट बिलिंग सुविधा शुरू की है, जिसके परिणामस्वरूप अब उपभोक्ताओं को मौके पर ही बिजली रीडिंग और बिजली बिल दिया जाता है । 7. उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा विभिन्न ऑनलाइन भुगतान विकल्प उपलब्ध करवाएं गए हैं। भुगतान के डिजिटल मोड के माध्यम से दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम अपने राजस्व का लगभग 77 प्रतिशत संग्रहण कर रहा है। 8. उपभोक्ताओं की सुविधा को देखते हुए निगम द्वारा "मिस्ड कॉल सुविधा" की सेवा शुरू की गई है । इसके तहत दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम का कोई भी पंजीकृत उपभोक्ता अपने पंजीकृत मोबाइल नम्बर से 7082102200 नम्बर पर मिस्ड कॉल दे कर एस.एम.एस. के माध्यम से तुरंत उपभोक्ता अपना बिजली बिल प्राप्त कर सकता है। विद्युत मंत्रालय , भारत सरकार द्वारा की गई वार्षिक एकीकृत रेटिंग के अनुसार दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम को A + श्रेणी में शामिल किया गया है , जिसके परिणामस्वरूप दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम की गिनती सर्वोच्च बिजली वितरण निगमों में होती है। 

दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम उपभोक्ता संतुष्टि के मूल उद्देश्य के साथ अपने बिजली उपभोक्ताओं को निर्बाध एवं सुचारू रूप से बिजली आपूर्ति देने के लिए प्रतिबद्ध है।

Post a Comment

0 Comments