मूर्ति स्थापना के साथ ही मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का समापन

 मूर्ति स्थापना के साथ ही मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का समापन



आमेट महेन्द्र वैष्णव  7 /जुलाई दो दिवसीय मन्दिर मूर्ति के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के अंतिम दिन बुधवार को सेवा सत्संग समिति व आमेट राजमहल सहित भामाशाहो के द्वारा दिये गए आर्थिक सहयोग  से मन्दिर के जीर्णोद्धार के बाद प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के तहत शिव परिवार, राम दरबार मन्दिर,हनुमानजी के मंदिर में मूर्तियों की स्थापना के साथ ही मन्दिर के धार्मिक महोत्सव का समापन हो गया।इससे पूर्व प्रातः 7 बजे पण्डित मोती लाल पालिवाल सहित 11 पंडितो द्वारा सभी भगवान की मूर्तियों,ध्वजा दण्ड की विधिविधान पूर्वक पूजा अर्चना की गई व शुभ मुहूर्त मे प्रातः 9 बजे ज्ञानेंद्र सिंह जिलोला के द्वारा घोड़े पर सवार होकर मन्दिर के तोरण की पूजा अर्चना करते हुए महामण्डलेश्वर सन्त सीताराम दास,सन्त हरिदास आडावाड़ा, मुमक्षुराम रामद्वारा आमेट,मोनी रामदास रोकड़िया हनुमान, सन्तदास झडोल, सियारामदास बाहर का अखाडा,बह्मचारी महाराज,विधायक सुरेन्द्र सिंह राठौड़,चेयरमैन कैलाश मेवाड़ा,समिति के अध्यक्ष भैरू सिंह भाटी,मदन लाल पुरोहित, भंवर सिंह चुंडावत,पुष्पेंद्र सिंह चुंडावत,सज्जन सिंह सोंलंकी,ब्रिजगोपाल मालू,विष्णु सोमानी,नारायण कंसारा,फतेह सिंह भाटी,अर्जुन सिंह उदावत,अर्जुन सिंह चूंडावत,तेज सिंह चूंडावत,सुनील ग़ांधी, रमन कंसारा,माधव सिंह पँवार,सोहनलाल टेलर,पंकज टेलर, तुलसीराम पालिवाल, शांतिलाल पालीवाल,मनोहर लाल शर्मा,नन्द किशोर कंसारा, पुरषोत्तम पालिवाल,ललित पालिवाल, ,नारायणलाल कंसारा, शंकरलाल पालिवाल,जयसिंह भाटी,धर्मेश छिपा,राजेश पालिवाल,कल्याण सिंह भाटी,किशन लाल छिपा,कैलाश सोनी,मनोहर पितलिया, संजय सिंधी,ओम पालिवाल सहित समिति के सदस्यगण व धर्म प्रेमी श्रधालुओ ने मन्दिर में प्रवेश किया।तथा विधिविधान पूर्वक मूर्तियो की स्थापना करवाने के बाद सभी आगुन्तक मेहमानों के द्वारा यज्ञ पुर्णाहुति के लिए आहुतियां देकर व यथाशक्ति  पंडितो को दान पुण्य करवाते हुए यज्ञ सम्पन्न करवाया गया।यज्ञ पुर्णाहुति के तपश्चात महाआरती की गई एवम महाप्रसाद का भोग लगा प्रसाद श्रद्धालुओ में वितरण किया गया।



Post a Comment

0 Comments