गुडगाँव की जनता के पास आज बात रखने का भी प्लेटफॉर्म नहीं है : दिनेश वशिष्ठ



कल दिनांक 5 अगस्त को हुडा विभाग द्वारा हुडा सेक्टर्स मैं रिहायशी प्लॉट्स की ऑनलाइन बोली हैं जिसकी कीमत पिछली बार की तरह एक गज एक लाख रूपये से ऊपर की सम्भावना है। क्या एक मध्यम परिवार इस बोली मैं शामिल हो सकता है क्या ये एक आम आदमी की सरकार है। 

कल दिनांक 5 अगस्त को हुडा विभाग द्वारा हुडा सेक्टरस  मैं रिहायसी प्लॉट्स की ऑनलाइन बोली हैं जिसकी कीमत पिछली बार की तरह एक गज एक लाख रुपये से ऊपर की सम्भावना है। क्या एक मध्यम वर्गीय परिवार हुडा विभाग द्वारा इस ऑनलाइन बोली मैं शामिल हो सकता है क्या ये एक आम आदमी की सरकार है। दिनेश वशिष्ठ प्रेजिडेंट आरडब्ल्यूए सेक्टर 3 ,5 और 6 ने बताया की एक महीने पहले हुडा विभाग द्वारा हुडा रिहायसी प्लाट की ऑनलाइन बोली लगाई गई हमारे सेक्टर 3 व  6 के अन्दर जिसमें ऑनलाइन प्लाट एक लाख रूपये गज के आस पास और ऊपर रही  सरकार और हुडा विभाग बताये की इस बोली मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार सामिल हो सकता है। गुडगाँव की जनता के पास आज बात रखने का भी प्लेटफॉर्म नहीं है सरकार इस पर ध्यान दे और अब कल की बोली भी शायद अलग अलग हुडा सेक्टर में उसी रेट में रहने की संभावना है। हुडा विभाग क्यों नहीं पहले की तरह लकी ड्रा के तहत हुडा प्लॉट निकालती जिससे आपकी सरकारी बोली के तहत लोगों को हुडा प्लॉट लेकर हुडा सेक्टर में रहने का सपना साकार हो सके। 


इधर सरकार कॉलोनीयां तोड़ रही है और इधर सरकार एक लाख से ऊपर जमीन बेच रही है। आम आदमी कहाँ जाये सरकार इसका जवाब दे कॉलोनियाँ आपके अधिकारीयों के संरक्षण मैं ही तो बनी होंगी बिजली कनेक्शन हैं पक्के रोड हैं सीवर लाइन बिछी हुई हैं कई जगह तो एम सी जी हाउस टैक्स ले रही है। जहां कॉलोनियाँ बन चुकी है वहाँ एम सी जी के नियम के हिसाब से मकान बनाने दिये जाने चाहिए। और छोटे बिल्डर को भी नियम के हिसाब से काम करने दिया जाने चाहिए जिससे आम आदमी को दस से बिस लाख तक का मकान व फ्लोर मिल सके जिससे सरकारी खजाने मैं पैसा आए और सरकार आम लोगों को अच्छी सुविधा दे। मेरी और सभी गुड़गांव वासियों की सरकार से प्रार्थना है की आम लोगों के लिए हुडा सेक्टर की तरह प्लाट लकी ड्रा के तहत जमीन मकान दे जिसकी कीमत आम बजट पाँच लाख के आस पास हो।


Post a Comment

0 Comments