मानवता शर्मसार चाय वाले को सटाकर गोली मारने पर फर्जी मुठभेड़ दिखाने पर अधिवक्ताओं ने हंगामा किया

 पुलिस मुठभेड के खिलाफ बागपत न्यायालय के बाहर अधिवक्ताओं का हंगामा 


( सचिन त्यागी )


बागपत जिला सत्र न्यायालय के बाहर गुरूवार को अधिवक्तओं और पुलिस के बीच हंगामा हो गया। हंगामा एक चाय वाले को पुलिस द्वारा मुठभेड में गिरफतार करने को लेकर था। जिसमें चाय बेचने वाले को पैर में गोली लगी है और पुलिस उसको रिमांड पर लेने के लिए न्यायालय पहुंची थी। न्यायालय के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। 


बागपत जिले में आठ सितंबर की रात में डयूटी पर जा रहे एक पुलिस कर्मी अरूण पर बदमाशों ने फायरिंग की थी। बागपत के काठा बंदपुर मार्ग पर हुई इस घटना में सिपाही अरूण बुरी तरह से घायल हो गया था। बागपत पुलिस ने मामले की जांच के बाद बुधवार रात्री मुठभेड के बाद एक आरोपित किरण पाल को गिरफतार किया है। जिसके दो साथी मौके से फरार हो गये। घायल आरोपी का इलाज कराने के बाद पुलिस जब आरोपित किरणपाल को रिमांड पर लेेने के लिए बागपत न्यायालय पहुंची तो अधिवक्ताओं ने हंगामा कर दिया। आरोप लगाया कि पुलिस ने मुठभेड फर्जी की है और किरणपाल के पैर में गोली मौजूद है। पुलिस घायल का इलाज नहीं करा रही। हंगामे को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस मौके पर तैनात कर दिया गया है। 


न्यायालय के बाहर चाय बेचता है आरोपित किरणपाल 


अधिवक्ताओं ने बताया कि पुलिस द्वारा जिस किरणपाल को मुठभेड में गोली मारने के बाद गिरफतार किया है वह न्यायालय के बाहर चाय बेचने का काम करता है। पुलिस ने फर्जी मुठभेड कर उसको फंसाया है। 


एसपी ने बताया 

एसपी बागपत नीरज कुमार जादौन ने बताया कि किरणपाल महेशपुर चोपडा गांव का रहने वाला है और सिपाही अरूण उसका दोस्त है। सिपाही अरूण ने आरोप लगाया था कि किरणपाल ने अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर उस पर जानलेवा हमला किया था। किरणपाल उसकी पत्नि से दोस्ती बढा रहा था। जिसका उसने विरोध किया था।




Post a Comment

0 Comments