मिट्टी को सम्मान दिलाने में जुटे अमित रोहिल्ला को कैनविन ने दिया सम्मान

 मिट्टी को सम्मान दिलाने में जुटे अमित रोहिल्ला को कैनविन ने दिया सम्मान



-कैनविन फाउंडेशन की ओर से नवीन गोयल ने किया सम्मानित

गुरुग्राम। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वोकल फॉर लोकल मुहिम को गति देने के उद्देश्य से मिट्टी का सम्मान बढ़ाने की दिशा में कार्यरत अमित रोहिल्ला को कैनविन फाउंडेशन की ओर से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें फाउंडेशन के सह-संस्थापक नवीन गोयल ने अपने कार्यालय में दिया। 

इस अवसर पर अपने विचार सांझा करते हुए नवीन गोयल ने कहा कि भारतीयता को आगे बढ़ाने, अपनी संस्कृति, अपने संस्कारों को आगे बढ़ाने में जुटे व्यक्तियों का हर स्तर पर सम्मान किया जाना जरूरी है। हमारे शहर, हमारे प्रदेश और देश में अनेकों व्यक्ति ऐसे हैं, जो कि कोई न कोई एजेंडा लेकर काम कर रहे हैं। इसमें उनका कोई स्वार्थ नहीं है। फिर भी वे लगातार काम कर रहे हैं। इन्हीं में से एक हैं अमित रोहिल्ला। उन्हें मिट्टी को कद्र दिलाने की जुनून है। वे मिट्टी से बने बर्तनों को उपयोग करने की मुहिम चला रहे हैं। 

सम्मानित हुए मिट्टी की खुशबू राष्ट्रीय मुहिम चला रहे हीरा अमित रोहिल्ला के मुताबिक उनका मुख्य उद्देश्य कुम्हारों द्वारा बनाए गए मिट्टी के सामान को जन-जन तक पहुंचाना है। इनमें इन माटी के कलाकारों की आजिविका अच्छी चलेगी और हमारे देश में मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करने से बीमारियां कम होंगी। इस मुहिम को शुरू करने से पहले उन्होंने स्वयं इस काम को बारीकी से समझा। वे बर्तन बनाने वालों के पास गए। उनके साथ काम भी किया। पीएम मोदी के लोकल फॉर वोकल की मुहिम को प्रमोट करना जरूरी है। उन्होंने यह भी बताया कि गुरुग्राम में जल्द ही मिट्टी से बनी भारत माता की एक मूर्ति भी स्थापित की जाएगी, इस मूर्ति के निर्माण में काला पानी से लाई गई मिट्टी भी शामिल होगी। इसे जयपुर में मिट्टी के कलाकार सुरेश प्रजापति बना रहे है।

 अमित रोहिल्ला ने बताया कि अब वे मिट्टी से बनी चीजों का डिजिटली प्रचार भी कर रहे हैं, ताकि अधिक से अधिक लोगों तक इस मुहिम को पहुंचाया जा सके। अब तक उन्होंने 500 से अधिक कुम्हारों से संपर्क करके एक डाटा तैयार किया है। हरियाणा, दिल्ली समेत कई जगह के बाजारों से संपर्क साध रहे हैं, ताकि वहां पर मिट्टी के सामान को प्रमोट किया जा सके। गरीब वर्ग के इन लोगों को आर्थिक मदद, मेडिकल सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है। प्लास्टिक को हटाने के लिए उन्होंने अब तक करीब 1000 मिट्टी के गमले भी वितरित किए हैं।

Please follow us also

Email-ajeybharat9@gmail.com

Whatsapp Group https://chat.whatsapp.com/ClaOhgDw5laFLh5mzxjcUH

http://facebook.com/Ajeybharatkhabar

http://youtube.com/c/Ajeybharatnews

http://instagram.com/ajeybharatnews

Post a Comment

0 Comments