नदी नालों को पुनर्जीवित करने फावड़ा लेकर जीरो ग्राउंड पर पहुंचे बागपत डीएम

नदी नालों को पुनर्जीवित करने फावड़ा लेकर जीरो ग्राउंड पर पहुंचे डीएम 

बागपत जिले में नदी नालों को पुनर्जीवन देने के प्रशासन जीरों ग्राउंड पर उतर आया है। रविवार को जनपद के पांच गांवों में प्रशासनिक अधिकारियों ने डीएम के साथ श्रमदान किया। नालों की सफाई की और ग्रामीणों को पानी के महत्व को समझाते हुए पानी की हर बूद सहेजने पर जोर दिया। 

जनपद में वर्षा की हर एक बूंद को सहजने जल संरक्षण कर जनपद का जलस्तर ऊंचा उठाने के उद्देश्य से जिलाधिकारी राजकमल यादव के नेतृत्व में सजल बागपत अभियान चलाया जा रहा है। जिसमंे पुरानी और पारंपरिक नाली और नदियों को पुनर्जीवित करने प्रयाश जारी है।  जनपद में बर्षों  पुराना बुढेडा नाला का जीर्णोद्धार श्रमदान अभियान चलाकर मात्र 20दिन में पूर्ण कर लिया गया था जिसमें बढ़-चढ़कर अधिकारी, ग्राम प्रधानों ग्राम के जनमानस लोगों ने कर्मचारियों ने हिस्सा लिया।  इस पहल को आगे बढ़ाते हुए रविवार को भी अधिकारियों का श्रमदान जारी रहा। जिला अधिकारी के नेतृत्व में प्रातः सात बजे से लूम्ब नदी के जीर्णोद्धार कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया जिलाधिकारी ने फावड़ा लेकर श्रमदान किया और लोगों को प्रेरित किया। कार्यक्रम में जनपद के समस्त अधिकारी कर्मचारियों ने श्रमदान अभियान में अपनी सहभागिता दी 

खंड विकास अधिकारी श्री संदीप पाल ने बताया कि लूम्व नदी की लंबाई 12 किलोमीटर है जो 5 गांव से लूम्व,हेवा, हमीरपुर तिलवाड़ा , कुर्डी से होकर गुजरती है जिस पर विशेष श्रमदान अभियान आज से जिलाधिकारी के नेतृत्व में चलाया गया है जिसको हम एक सप्ताह में पूर्ण कर लेंगे।इस अभियान में जिलास्तर अधिकारी भी शमिल रहे।



Post a Comment

0 Comments