पर्यावरण प्रेमियों के साथ पर्यावरण संरक्षण विभाग ने निकाली तिरंगा यात्रा

 पर्यावरण प्रेमियों के साथ पर्यावरण संरक्षण विभाग ने निकाली तिरंगा यात्रा



-पूरे हरियाणा में शुरू की जा रही हैं इस तरह की यात्राएं

-पहले झाड़सा बंध की सफाई की और उसके बाद निकाली यात्रा

गुरुग्राम। पर्यावरण संरक्षण विभाग भाजपा हरियाणा की ओर से शहर के पर्यावरण प्रेमियों के साथ मिलकर बुधवार को तिरंगा यात्रा निकाली गई। तिरंगा यात्रा से पहले श्रमदान करके झाड़सा बंध पर सफाई अभियान भी चलाया गया। इसका नेतृत्व पर्यावरण संरक्षण विभाग भाजपा हरियाणा प्रमुख नवीन गोयल ने किया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में नवीन गोयल ने कहा कि हमें इस बार आजादी के अमृत महोत्सव में जन-जन में राष्ट्र भक्ति को जगाना है। हम आजादी की 75वीं सालगिरह पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। यह हमारे लिए किसी पर्व से कम नहीं है। देश के बच्चे-बच्चे में देशभक्ति का संचार हो चुका है। आज हर देशवासी प्रसन्न है। आज जितने तिरंगे लहराए जा रहे हैं, आजादी के बाद शायद यह पहला मौका है जब हर जन तिरंगे को थामे हुए है। 

पर्यावरण विषय पर बोलते हुए नवीन गोयल ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण विभाग भाजपा हरियाणा का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण में सुधार का है। इसके लिए सालभर हर मौसम में विभाग काम करता है। उन्होंने कहा कि हमारा पर्यावरण जितना खराब है, यह हम सब जानते हैं। इस पर चर्चा करने की बजाय हमें इसमें सुधार के प्रयास करने हैं। सुधार हम सबके सांझा प्रयासों से ही होंगे। उन्होंने कहा कि हम अपने क्षेत्रों में स्वच्छता अभियान चलाएं, साल के अंत में जब धूल-मिट्टी व अन्य कारणों से जब पर्यावरण अधिक खराब होता है तो हम अपने घरों के आसपास पानी का छिड़काव करें और मॉनसून के मौसम में अधिक से अधिक पेड़ लगाएं। यह ऐसा मौसम में जब पेड़ों को अधिक देखभाल की जरूरत नहीं होती। प्रकृति स्वयं उन्हें संभालती है। फिर भी हम अपने द्वारा लगाए गए पेड़ों की सुरक्षा जरूर करें। 

श्री गोयल ने कहा कि हर पर्यावरण प्रेमी अपने क्षेत्रों में पर्यावरण में सुधार के लिए ना केवल लोगों को जागरुक करे, बल्कि लोगों को साथ लेकर काम भी करे। जब तक हम आम जनता को जागरुक नहीं करेंगे, तब तक काम बहुत कठिन है। हर व्यक्ति को पर्यावरण समेत तमाम विषयों के लिए जिम्मेदारी का अहसास कराएं। जमीनी स्तर पर काम करने के साथ पर्यावरण विषयों पर स्कूलों, कालेजों और अन्य शिक्षण संस्थानों में पेंटिंग प्रतियोगिताएं आदि कराकर बच्चों को भी इस विषय से जोड़ें। जब हम सब मिलकर कदम बढ़ाएंगे तो अपने प्रदूषित श्रेणी के शहर को स्वच्छता की श्रेणी में ले आएंगे।

Post a Comment

0 Comments