अधिवक्ता परिषद हरियाणा प्रांतीय अधिवेशन गुरुग्राम विश्वविद्यालय में संपन्न।

 


 सांस्कृतिक संप्रभुता विषय पर गणमान्य व्यक्तियों ने रखे विचार। कहा अधिवक्ता परिषद का नारा "न्यायः मम धर्मः" और लक्ष्य समाज के अंतिम व्यक्ति तक न्याय ।

गुरुग्राम। रेखा वैष्णव। संविधान दिवस के उपलक्ष्य में अधिवक्ता परिषद हरियाणा की गुरुग्राम इकाई ने सांस्कृतिक संप्रभुता विषय पर प्रांतीय अधिवेशन आयोजित किया। इसमें हरियाणा प्रांत के एक हजार से अधिक अधिवक्ताओं के साथ गुरुग्राम विश्वविद्यालय के विधि विभाग के सौ से अधिक विद्यार्थियों ने भी भाग लिया। 

कार्यएक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश श्री पंकज जैन, बतौर अध्यक्ष हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश श्री वीरेन्द्र सिंह, विशिष्ट अतिथि के रूप में हरियाणा सरकार के महाधिवक्ता श्री बलदेव राज महाजन, गुरुग्राम विश्वविद्यालय के उपकुलपति डा दिनेश कुमार, राष्ट्रीय महामंत्री श्री डी भारत कुमार, हरियाणा राज्य विधि आयोग सदस्य श्री मुकेश गर्ग, क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्रीहरि बोरिकर, उत्तर क्षेत्रीय मंत्री श्री रणबीर सिंह खरकाली रहे। 

कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष श्री चंद्रपाल सिंह चौहान, प्रांत महामंत्री अशोक सिरसी, रविंद्र सिंह बुधवार, प्रांत मंत्री जगरूप सिंह, जिला अध्यक्ष अरुण शर्मा, जिला मीडिया प्रभारी मनीष शांडिल्य जिला महामंत्री पवन राघव, महिला अधिवक्तागण तथा संगठन के अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे। जिला अधिवक्ता परिषद, गुरुग्राम ने जिला बार एसोसिएशन, गुरुग्राम के सह संयोजन में इस कार्यक्रम का सफल आयोजन किया। 

मुख्य व विशिष्ट अतिथियों ने अपने उद्बोधन में कहा कि भारतवर्ष संकृति और उच्च जीवन मूल्यों का राष्ट्र रहा है और इस धरोहर का हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है जिससे नर से नारायण तक की सफल यात्रा होती है। राष्ट्रीय सांस्कृतिक संप्रभुता का संरक्षण और व्यवहारिक जीवन में इसके क्रियान्वयन से हम अपने भविष्य की पीढ़ियों के लिए एक सभ्य और विकसित राष्ट्र संजो कर रख सकते हैं। अधिवक्ता समाज में गणमान्य हैं और उनके विचार और कार्य समाज को प्रभावित करते हैं। संगठन के अधिकारियों ने कहा कि अधिवक्ता परिषद का नारा है "न्याय मम धर्मः" और लक्ष्य है समाज के अंतिम व्यक्ति तक न्याय पहुंचाना ताकि कोई आर्थिक, सामाजिक रूप से कमजोर व्यक्ति भी न्याय से वंचित न रहे और हर व्यक्ति में राष्ट्र प्रथम का भाव जागृत हो। 

अधिवक्ता परिषद ने गुरुग्राम विशेलविद्यालय उप कुलपति व प्रशासन का भी इस कार्यक्रम आयोजन में सक्रिय सहयोग के लिए विशेष धन्यवाद किया।



Post a Comment

0 Comments