डायबिटीज गठिया वजन कोलेस्ट्रॉल कब्ज बीपी हृदय रोग आंखों की रोशनी सब की दवा है

गुरुग्राम ।डॉ अर्चिता महाजन न्यूट्रीशन डाइटिशियन एवं चाइल्ड केयर होम्योपैथिक फार्मासिस्ट एवं ट्रेंड योगा टीचर नॉमिनेटेड फॉर पद्म भूषण राष्ट्रीय पुरस्कार ने बताया कि लाल चोलाई में विटामिन ए, सी, के जैसे विटामिन से भरपूर है। लाल चोलाई. फोलेट, राइबोफ्लेविन और कैल्शियम जैसे गुणों से भरपूर मानी जाती है जो शरीर को कई समस्याओं से बचाने में मददगार है. वजन कंट्रोल करने के लिए बेस्ट अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो रोजाना लंच में चौलाई का साग खाना फायदेमंद है।लाल चोलाई खून में इंसुलिन लेवल को कंट्रोल करती है. इसका प्रोटीन इंसुलिन की मात्रा को काबू में रखता है.।कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद चौलाई का साग रोजाना खाने से बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद मिलती है। 



जिससे हार्ट अटैक इस समस्या नहीं होतीविटामिन ए की मात्रा है भरपूर जिससे आंखें ठीक रहती हैंआयरन की कमी दूर हो जाती है और बुढ़ापा जल्दी नहीं आता चेहरे की रंगत बनी रहती है नाखून जल्दी नहीं टूटते।कब्ज होगी दूर क्योंकि पाचन कंट्रोल करती है जिससे पेट साफ करने की दवाई खाने की जरूरत नहीं रहती।यह भूख और एक्स्ट्रा क्रेविंग को कंट्रोल करता है. स्टडी के मुताबिक लाल पालक में मौजूद प्रोटीन खून में इन्सुलिन लेवल को कम करता है. इसके अलावा इस साग में मौजूद प्रोटीन एक हार्मोन को रिलीज करता है जिससे भूख कम करने और वेट लॉस में मदद मिलती है.क्योंकि इनकी तासीर गर्म होती है और शरीर को गर्माहट देते हैं.चौलाई (मरसा) को पीसकर दांतों पर रगड़ें। इसके साथ ही पौधे का काढ़ा बनाकर कुल्ला करें। इससे मुंह के छाले और दांतों के दर्द की बीमारी में लाभ होता है।चौलाई का रस गठिया, रक्तचाप और हृदय रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद होता है. वैसे ज्यादातर लोग चौलाई की सब्जी खाना पसंद करते हैं. पेट के रोग, कब्ज और बाल गिरने पर चौलाई की सब्जी खाना लाभदायक होता है.

Post a Comment

0 Comments