25-26 दिसंबर को बाल भवन में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होगा

 25-26 दिसंबर को बाल भवन में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होगा 



हिसार (अजय वैष्णव)। हरियाणा कला परिषद, हिसार मंडल, विलक्षणा एक सार्थक पहल समिति तथा गुरु विद्यापीठ रोहतक द्वारा 25-26 दिसंबर को बाल भवन में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इस बारे में जानकारी देते हुए गुरु विद्यापीठ के निदेशक डॉ विकास ने बताया कि हरियाणा कला परिषद हिसार मंडल तथा गुरु विद्यापीठ के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा जिसमें संगोष्ठी का विषय "वैश्विक परिप्रेक्ष्य में सोशल मीडिया : सम्भावनाएं एवं चुनौतियां" है। उन्होंने बताया कि हरियाणा कला परिषद के सांस्कृतिक समूहों द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी जाएंगी। डॉ विकास ने बताया कि राज्यसभा सांसद कृष्ण लाल पँवार मुख्यातिथि तथा बॉलीवुड अभिनेता यशपाल शर्मा तथा कला परिषद के अतिरिक्त निदेशक महाबीर गुड्डू विशेष अतिथि के रूप में सम्मिलित होंगे। चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय, भिवानी की कुलसचिव श्रीमती ऋतु सिंह, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता रुद्र विक्रम सिंह, म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हनुमान कौशिक तथा एमेच्योर कबड्डी एसोसिएशन हरियाणा के चेयरमैन कुलदीप दलाल अति विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित होंगे। हरियाणवी गायक हिंद केसरी बाली शर्मा, रामकेश जीवनपुर, विकास सातरोड़, बॉलीवुड सिंगर विकास कुमार तथा जिला पार्षद संदीप विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित होंगे। 

  डॉ विकास ने बताया कि इसी कार्यक्रम में हरियाणा पुलिस में निरीक्षक पद पर कार्यरत पर्वतारोही अनिता कुंडू तथा साहित्यकार एवं अभिनेता डॉ रामफल चहल को विलक्षणा कला एवं संस्कृति रत्न से सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी से डॉ चंद्रशेखर सिंह, दयानंद महाविद्यालय, अजमेर से डॉ उन्नति शर्मा, चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय, भिवानी से डॉ सुशीला तथा टांटिया विश्वविद्यालय, श्रीगंगानगर से डॉ नरेश सिहाग जी अपना व्याख्यान देंगे। उन्होंने बताया कि देश के कोने कोने से आये विद्वानों को भी सम्मानित किया जाएगा। डॉ विकास ने बताया कि हमारा मकसद हरियाणवी लोक कला को जन जन तक पहुंचाना है, इसी उद्देश्य के लिए यह संगोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

Post a Comment

0 Comments