6 दिसंबर को नागरिक सुरक्षा स्थापना दिवस पर प्रशासन को मिली एंबुलेंस की भेंट।

गुरुग्राम।

सिविल डिफेंस के वालंटियर्स जी जान से सेवा करके मानवता की रक्षा में जुटे हैं और आज भी नागरिकों की सुरक्षा में अपना निरंतर सहयोग दे रहे हैं। 

6 दिसंबर को 61वां नागरिक सुरक्षा स्थापना दिवस था, इस दिवस का उद्देश्य नागरिकों को नागरिक सुरक्षा की जरूरत एवं इसके महत्व के प्रति जागरूक करना है।

सीएफआई फाउंडेशन द्वारा एक एंबुलेस प्रशासन को भेंट की गई हो कि हर जरूरत के समय सिविल डिफेंस टीम के साथ उपलब्ध रहेगी तथा खाली समय में पीएचसी पलड़ा के जुड़ी रहेगी। नागरिक उपमंडल अधिकारी गुरुग्राम श्री रविन्द्र यादव जी ने इस माननीय उपायुक्त महोदय की तरफ से सीनियर चीफ वार्डन श्री नरेश शर्मा जी के साथ इस एंबुलेंस का अधिग्रहण किया तथा सीएफआई फाउंडेशन का आभार प्रकट किया। फाउंडेशन के तरफ से अध्यक्षा डॉक्टर प्रीति नायर जो कि भोपाल से यहां पधारी थी इस कार्यक्रम में शामिल हुई। उनकी टीम के दो महत्वपूर्ण सदस्य रंजन और अर्पिता जो सिविल डिफेंस टीम के सदस्य भी है शामिल थे।


सिविल डिफेंस ने कॉविड के दौरान निष्काम सेवा करके एक मिसाल कायम की है। 

प्रशासनिक, अधिकारिक एवं सामाजिक तौर पर उन्होंने एक दूसरे का सहारा बनकर मानव जीवन को बचाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है। हर किसी की अपेक्षा पर खरा उतरने का भरसक प्रयास सिविल डिफेंस के वालंटियर्स ने किया है। सभी ने अपने अपने कारोबार व नौकरियों में व्यस्त रहने के साथ-साथ अपना कीमती समय निकालकर सिविल डिफेंस के वालंटियर बनकर अपनी सेवाओं को अंजाम दिया है। मानवता की रक्षा में इन्होंने अपनी जान की परवाह किए बिना समाज कल्याण के कार्य किए हैं। मानवता के लिए रक्तदान करना, जरूरतमंदों को कच्चा एवं पक्का राशन वितरण, घरों में फूड पैकेट्स वितरण, मास्क, सैनिटाइजर वितरण, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, गैस सिलेंडर, दवाएं आदि अन्य सुविधाओं का लोगों तक पहुंचाना, कोविड मरीजों का अस्पताल तक पहुंचाना, वैक्सीनेशन सेंटर पर लोगों को लेकर आना और फिर उन्हें छोड़ कर आना, अस्पतालों में कोविड केयर सेंटर पर अपनी सेवाएं देना, नागरिकों को जागरूक करना, प्रवासियों को उचित स्थान पर ठहराना, उनको बस स्टैंड एवं रेलवे स्टेशन ले जाकर घर तक भेजना, भारी वर्षा में लोगों के जीवन की रक्षा करना, शीतला माता मंदिर में दिन-रात सेवा करना, भीड़ नियंत्रित करना, ट्रैफिक नियंत्रण करना, 24 घंटे अपने आप को मदद के लिए समर्पित करे रखना इनकी खूबी में शामिल है। राज्य के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री एवं अन्य राजनेताओं और प्रशासनिक, पुलिस अधिकारियों के निर्देशानुसार इन्होंने हर संभव सहायता नागरिकों तक पहुंचाई है।

मानव मात्र के कल्याण एवं रक्षा के लिए सिविल डिफेंस के वालंटियर्स सदैव तत्पर है।

Post a Comment

0 Comments