जीएमडीए द्वारा सेक्टर 68-75 और 112-115 में जल निकासी नेटवर्क बिछाने का कार्य किया जाएगा

जीएमडीए द्वारा सेक्टर 68-75 और 112-115 में जल निकासी नेटवर्क बिछाने का कार्य किया जाएगा

- प्राधिकरण की ओर से दोनों कार्यों के लिए टेंडर लगा दिए गए हैं

- नये मास्टर ड्रेनेज सिस्टम गुरुग्राम में तेजी से विकसित हो रहे सेक्टर 68-75 और 112-115 में जल निकासी व्यवस्था को बढ़ाएगा।

गुरुग्राम, 6 दिसंबर: गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (जीएमडीए) ने गुरुग्राम के नए सेक्टरों में जल निकासी नेटवर्क बिछाने से संबंधित अपनी दो परियोजनाओं के लिए निविदाएं जारी की हैं। इन दो कार्यों में सेक्टर 68-75 में आरसीसी बॉक्स टाइप मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन का निर्माण और सेक्टर 112-115 में आरसीसी बॉक्स टाइप मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन का निर्माण शामिल है।


ये गुरुग्राम के तेजी से विकसित होने वाले क्षेत्र हैं जिनमें बढ़ती आबादी देखी जा रही है। इन क्षेत्रों में मास्टर ड्रेनेज सिस्टम प्रदान करने और नागरिकों के लाभ के लिए पर्याप्त बुनियादी ढांचे की स्थापना सुनिश्चित करने के लिए जीएमडीए द्वारा कार्य किए जा रहे हैं। सेक्टर 68-75 और 112-115 में मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन का निर्माण प्राथमिकता पर किया जा रहा है और इन दो बुनियादी ढांचे के विकास कार्यों के लिए टेंडर लगा दिए गए हैं,” जीएमडीए के मुख्य अभियंता श्री राजेश बंसल ने कहा।


सेक्टर 68 से 75 में जल निकासी नेटवर्क को बढ़ाने के लिए, 17.63 किमी लंबाई में मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन बिछाने का काम करने की योजना है, जिसमें विभिन्न आकारों के आरसीसी बॉक्स टाइप ड्रेन का निर्माण किया जाएगा। इन बरसाती नालो के पानी के निर्वहन का निपटान आगामी एसपीआर के साथ वाटिका चौक से एनएच 48 तक मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन में और अंततः लेग-III बादशाहपुर नाले में किया जाएगा। क्षेत्रों में सेक्टर 68, 69, 70, 70ए, 71, 72,75, 75ए, 71, 73 और 74 शामिल हैं। सेक्टर 68-75 में जल निकासी नेटवर्क प्रदान करने की परियोजना 62.78 करोड़ रुपये की लागत से निष्पादित की जाएगी। प्रोजेक्ट पूरा होने का समय 22 महीने है।


सेक्टर 112-115 की जल निकासी परियोजना के तहत सेक्टर 112-115 में लगभग 7.5 किमी लंबाई में विभिन्न आकार के मास्टर आरसीसी बॉक्स टाइप ड्रेन का निर्माण किया जाएगा और कुल ड्रेनेज सिस्टम को मास्टर लेग-1 ड्रेन से जोड़ने का प्रस्ताव है, जो इन क्षेत्रों में मौजूद है। इसके अतिरिक्त, भारी मानसून के दौरान मुख्य ड्रेन के किसी भी ओवरफ्लो को रोकने के लिए सेक्टर 115 में लेग -1 ड्रेन के पास एक पंपिंग स्टेशन का भी निर्माण किया जाएगा। इस पंपिंग प्रणाली को भारी मानसून अवधि के दौरान उपयोग किया जाएगा ताकि लेग-1 और प्रस्तावित नए ड्रेन के बैक फ्लो के किसी भी संभावना से बचा जा सके।  सेक्टर 112-115 में जल निकासी नेटवर्क प्रदान करने की परियोजना 38.46 करोड़ रुपये की लागत से क्रियान्वित की जाएगी। प्रोजेक्ट पूरा होने का समय 19 महीने है।


इसके अतिरिक्त, जीएमडीए द्वारा सेक्टर 69, 70, 75 और 75ए के साथ वाटिका चैक से एनएच 8 तक लगभग 5.2 किलोमीटर लंबी ड्रेन बिछाने का काम भी तेजी से किया जा रहा है। पूरा होने पर यह ड्रेन गुरुग्राम शहर के लेग-4 ड्रेन के रूप में कार्य करेगा और भारी मानसून के दौरान बादशाहपुर ड्रेन (लेग-3) पर बोझ को भी कम करेगा। 

Post a Comment

0 Comments