यदि पारिवारिक हिस्ट्री में डायबिटीज है और पैरों में यह लक्षण है तो तुरंत डायबिटीज चेक करें डॉ अर्चिता महाजन


पंजाब ।डॉ अर्चिता महाजन न्यूट्रीशन डाइटिशियन एवं चाइल्ड केयर होम्योपैथिक फार्मासिस्ट एवं ट्रेंड योगा टीचर नॉमिनेटेड फॉर पद्म भूषण राष्ट्रीय पुरस्कार ने बताया कि भारत में करीब 4.3 करोड़ लोगों को खबर ही नहीं कि वे डायबिटीज से पीड़ित हैं2021 के अध्ययन के अनुसार भारत में 101 मिलियन लोग मधुमेह से और 136 मिलियन लोग प्री-डायबिटीज से पीड़ित थे डायबिटीज के मरीजों को नाखूनों में फंगल इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। 

इसकी वजह से नाखून का रंग बदल जाता है और नाखून मोटे और टेढ़े-मेढे होने लगते हैं। कुछ मामलों में नाखून अपने आप ही टूटने लगते हैं।डायबिटिक न्यूरोपैथी पैरों की नसों को नुकसान पहुंचा सकती है। इसके कारण पैरों में दर्द या झुनझुनी महसूस होती है। कई बार पैर सुन्न भी हो जाते हैं। 

इसके अलावा, यह पाचन, यूरिनरी ट्रेक्ट, रक्त वाहिनियों और दिल की सेहत भी प्रभावित करता है। अगर आपको भी अक्सर पैरों में झुनझुनी महसूस होती है या पैर सुन्न हो जाते हैं, तो आपको तुरंत डाक्टर के पास जाकर चेकअप करवाना चाहिए।डायबिटीज का पैरों पर असर होने से पैरों की हड्डियां कमजोर हो जाती है और जोड़ों को नुकसान पहुंचता है। 

ऐसी स्थिति में पैरों में फ्रैक्चर का खतरा अधिक होता है। इस परेशानी में पैरों या टखनों में रेडनेस और सूजन की परेशानी होती हैपैरों की स्किन का रंग बदलने लगे तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. इसके अलावा टखनों में सूजन, पैरों के तापमान में बदलाव महसूस होना, पैरों पर लगातार घाव, पैरों या टखनों में दर्द या झुनझुनी, एड़ी पर सूखी-फटी त्वचा, पैरों में इंफेक्शन आदि की शिकायत होने लगे तो डॉक्टरों से संपर्क करना चाहिए.

Post a Comment

0 Comments