हिन्दू जागरण दिवस के उपलक्ष में हुआ सेवा संकल्प सभा का आयोजन


हिन्दू जागरण दिवस के उपलक्ष में हुआ सेवा संकल्प सभा का आयोजन

मुसलमानों और अन्य धर्मों के लोगों को आगे आना चाहिए और हिंदुओं के विवादित धार्मिक स्थलों को हिंदू समुदाय को सौंप देना चाहिए - इन्द्रेश कुमार

गुरूग्राम:-  विदेशी आक्रान्ताओं ने सनातनी अनुयायियों के जिन मंदिरों को ध्वस्त कर वहा अन्य धर्मस्थलो का निर्माण किया था अब मुसलमानों और अन्य धर्मों के लोगों को आगे आना चाहिए और हिंदुओं के विवादित धार्मिक स्थलों को हिंदू समुदाय को सौंप देना चाहिए , यह बात इन्द्रेश कुमार ने एक सभा को सम्बोधित करते हुए कही।

 उल्लेखनीय है 18 दिसम्बर को सम्पूर्ण भारत में हिन्दू जागरण दिवस मनाया जाता रहा है , उसी उपलक्ष में समग्र हिन्दू सेवा संघ द्वारा सेवा संकल्प सभा का आयोजन सैक्टर सात एक्सटेंशन स्थित जी ए वी इण्टरनेशनल स्कूल के मैदान में किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि और वक्ता के रूप में  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक इन्द्रेश कुमार जी ने भाग लिया । अध्यक्षता महामण्ङलेश्वर स्वामी धर्मदेव जी ने की तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्त सह संघ चालक प्रताप कुमार, विजय जी और झटका सर्टिफिकेशन आन्दोलन के सूञधार और प्रसिद्ध समाजसेवी सरदार रवि रंजन जी उपस्थित रहे। कार्यक्रम संयोजक की जिम्मेदारी अंतर्राष्ट्रीय आयुर्वेदाचार्य ङा. परमेश्वर अरोरा की रही । इस अवसर पर सभा को सम्बोधित करते हुए प्रखर राष्ट्रीय वक्ता इन्द्रेश कुमार जी ने कहां कि अयोध्या में बन रहे रामलला के मंदिर को लेकर भी बड़ी बात बोली। उन्होंने कहा, “राम मंदिर सभी के लिए है। यह एक राष्ट्रीय मंदिर है। राम सभी के लिए हैं और सभी में हैं। भारत एक ऐसा राष्ट्र है जो सभी धर्मों को स्वीकार करता है और उनका सम्मान करता है। इसलिए इसे राष्ट्रीय मंदिर कहना है।"

इन्द्रेश कुमार जी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान का भी समर्थन जिसमें उन्होंने कहा था कि हर मस्जिद में शिवलिंग नहीं देखना चाहिए। इंद्रेश कुमार ने कहा, “मोहन भागवत ने जो कहा वह बहुत स्पष्ट है। खोजने की जरूरत नहीं है, सच्चाई सबके सामने है। हर किसी को उस सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए। मोहन भागवत के बयान का उद्देश्य आपसी संघर्ष को समाप्त करना था ताकि समाज नफरत और हिंसा से मुक्त होकर सोच-विचार कर सके, वह इस बयान में बहुत स्पष्ट थे।”

डॉ इंद्रेश कुमार जी ने मुस्लिम समुदाय से भी अपील की कि अयोध्या में बन रहे भगवान राम के मंदिर के उद्घाटन की तारीख 22 जनवरी को धूमधाम से मनाएं,  इंसानियत के मालिक और रचनाकार रामलला 22 जनवरी को अयोध्या में अपने मंदिर में विराजमान हो जाएंगे। इस को बङे धूमधाम से हम ही नही पूरा विश्व इस तिथि को दीपावली के पावन पर्व की तरह मनाऐगा, उन्होंने कहा कि इसे सभी धर्मों के लोगों को बड़े त्योहार के रूप में मनाकर दुनिया को इंसानियत, अमन और शांति का पैगाम देना चाहिए। उन्होने यह भी कहा कि देश में इण्ङिया की जगह भारत नाम का प्रयोग किया जाना चाहिए । आर्य काल से ही भारत का नाम चला आ रहा है और इसे आगे बढाया जाना चाहिए । भाषा कोई भी हो नाम एक ही रहता है । हमारे देश का नाम भारत है , हमें इण्ङिया नाम का उपयोग बन्द करना होगा। सभी व्यवहारिक क्षेञ में भारत नाम का प्रयोग हो तभी परिवर्तन आऐगा। भारत एक हिन्दू राष्ट्र है और यह सच्चाई है। सभी भारतीय हिन्दू है और सभी हिन्दू भारतीयो का प्रतिनिधित्व करते है।

महामण्ङलेश्वर स्वामी धर्मदेव जी ने सभा की अध्यक्षता करते हुऐ कहां कि गुरूग्राम ही नही समूचे हरियाणा में 22 जनवरी को दीपावली जैसा माहौल रहेगा, गुरूग्राम जिले में हर घर और मन्दिरो के साथ साथ कुछ जगहो पर आयोजन को और भव्य बनाने के लिए कम से कम पच्चीस स्थानो पर इक्कीस और ग्यारह हजार दीपको को जलाकर और आतिशबाजी कर इसको महोत्सव का रूप दिया जाऐगा।

हरियाणा गौरव कवि सुनील शर्मा ने "नहीं डरते जो तूफानों से अगन मुट्ठी में रखते हैं -  लुटाए जान गैरों पर वही हर दिल में बसते हैं। , कर्मवीरों का कायरता से रिश्ता हो नहीं सकता -

 उड़ा दे फूंक से पर्वत वही इतिहास रचते हैं" को उपस्थित समूह ने जमकर सराहा। गोविन्द झा बालक द्वारा राष्ट्रभक्ति गीत और रमिता जैन के निर्देशन द्वारा गणेश वन्दना और सामूहिक नृत्यो की देशभक्ति प्रस्तुतियो ने भी जमकर माहौल में रंग भरा और समूचा मैदान देशभक्ति के नारो से गूंज उठा। इस आयोजन में अथ सनातन योग स्थली, नमो नमो मोर्चा और जी ए वी ग्रुप आफ इण्टरनेशनल स्कूल का योगदान सराहनीय रहा। व्यवस्था प्रमुख वरिष्ठ सभाजसेवी परीक्षित भारद्वाज रहे।

 सभा में अर्चक पुरोहित सेवा संघ के अध्यक्ष जय भगवान शर्मा तथा उपाध्यक्ष आचार्य अशोक कुमार शास्ञी के निर्देशन में विभिन्न मन्दियो के सैकङो पुजारी, ज्योतिषाचार्य, कर्मकाण्ङ ब्राहमण और पण्ङितो ने भी हिस्सा लिया जिनको कम्बल और सर्टिफिकेट देकर भी सम्मानित किया गया।

       मंचासीन सभी अतिथियो का समग्र हिन्दू सेवा संघ के संरक्षक रिटायर्ङ सेशन जज अनिल कुमार बिमल , नत्थू सिंह सरपंच, अध्यक्ष ब्रहमप्रकाश कौशिक, महामंञी राजीव मित्तल तथा कोषाध्यक्ष चेतन शर्मा ने सम्मान चिन्ह और शाल भेंट कर सम्मानित किया। आयोजन संयोजक अंतर्राष्ट्रीय आयुर्वेदाचार्य ङा. परमेश्वर अरोरा , सह संयोजक लक्ष्मण पाहुजा और रीनू गुप्ता रहे। मंच संचालन अनिल कश्यप ने किया।

       आयोजन में वरिष्ठ भाजपा नेता नवीन गोयल, भारत तिब्बत विकास मंच के प्रदेश अध्यक्ष अमित गोयल, जगदीश ग्रोवर,  प्रमोद सलूजा, कोमल भटनागर, हरीश शर्मा, हरि गोयल तलवाङिया, नलिनि अग्रवाल, प्रतिमा मनचन्दा, मीनू शर्मा, लोकेश चौधरी, गगनदीप चौहान, रामसजन सिंह ,अनिल अञी, रितुराज अग्रवाल, शिव सिंघल, निशान्त अहलावत समेत भारी संख्या में सनातनी राष्ट्रभक्त उपस्थित रहे।


Post a Comment

0 Comments