क्यों जरूरी है पैरों के लिए योगा और मालिश डॉ अर्चिता महाजन

 डॉ अर्चिता महाजन न्यूट्रीशन डाइटिशियन एवं चाइल्ड केयर होम्योपैथिक फार्मासिस्ट एवं ट्रेंड योगा टीचर नॉमिनेटेड फॉर पद्म भूषण राष्ट्रीय पुरस्कार ने बताया कि तेल मालिश को गुजरे जमाने की बात मान लिया जाता है। आजकल की नई पीढ़ी नई-नई क्रीमों और अरोमा ऑइल को ही तरजीह देते हैं। शरीर के माध्‍यम से प्रसारित होने वाला ब्‍लड, शरीर की कोशिकाओं को ऑक्‍सीजन और पोषण पहुंचाने के लिए जिम्‍मेदार होता है। ब्‍लड शरीर से अपशिष्‍ट और विषाक्‍त पदार्थों को भी शुद्ध करता है। लेकिन जब तनाव की मौजूदगी के कारण ब्‍लड का फ्लो सीमित हो जाता है, तो पैरों की मालिश फायदेमंद हो सकती है क्‍योंकि इससे ब्‍लड सर्कुलेशन का  प्रवाहित होता है।रोज़ाना नारियल तेल से मालिश करने से पैर की नर्वेस को आराम मिलता है और लेग सिंड्रोम को खत्म करने में भी मदद मिलती है। इसलिए इस परेशानी से  पाने के लिए रोज़ गर्म तेल की मालिश करें। लोअर ब्लड प्रेशर रोज़ सोने से पहले 10 मिनट तक पैरों में मसाज करने से मूड स्विंग और एंजायटी की परेशानी खत्म हो जाती साथ ही लो और हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी भी खत्म हो जाती है।

रोज़ 20 मिनट पैरों की मालिश करने से मांसपेशियों के ऊतकों में मौजूद लैक्टिक एसिड खत्म होने लगता है जो एक्सरसाइज करने से होता है। इसे अगर अनदेखा करने से पैरों की अन्य समस्या बढ़ सकती हैं।जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका है पैरों की मालिश, इससे आप हर तरह के जोड़ों के दर्द छुटकारा पा सकते हैं।पैरों में मालिश करने से आपको हर तरह के सर दर्द से आराम मिलता है, रोज़ 15 मिनट मालिश करने से दिमाग शांत होता है। और आप अच्छे से काम करते हैं।



Post a Comment

0 Comments