एतिहासिक भारत मण्डपम में हुआ दषम राश्ट्रीय अटल सम्मान समारोह व अटल गाथा का आयोजन

एतिहासिक भारत मण्डपम में हुआ दषम राश्ट्रीय अटल सम्मान समारोह व अटल गाथा का आयोजन

अटल सम्मान समारोह में देश-विदेश की 16 विभुतियां हुई सम्मानित

आयोजक भुवनेश सिंघल ने सुनाए अटल जी के साथ बिताए दिनों के संस्मरण

केन्द्रीय मंत्री व सांसद और विभिन्न राजनीतिज्ञों, फिल्मी हस्तियों व कलाकारों का हुआ जमावड़ा

प्रसिद्ध कथा वाचक अजय भाई द्वारा विश्व प्रसिद्ध अटल गाथा का हुआ संगीतमय आयोजन

पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में एंतिहासिक भारत मंडपम प्रगति मैदान नई दिल्ली में दषम राश्ट्रीय ‘अटल सम्मान समारोह’ व प्रसिद्ध संगीतमय अटल गाथा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन अटल सम्मान समारोह ट्रस्ट द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रसिद्ध कथा वाचक अजय भाई ने संगीतमय अटल गाथा का आयोजन कर लोगों का दिल जीत लिया, उन्होनें अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन को उनकी कविताओं और स्मृतियों के माध्यम से जिंदा कर दिया। इस अवसर पर अटल सम्मानों की श्रंखला के दसवें आयोजन में विभिन्न क्षेत्रों के लिए 17 सम्मान दिये गए।

विश्वभर में अपनी अलग पहचान बना चुके अटल सम्मान समारोह में देश-विदेश से प्राप्त सैकड़ों आवेदनों की गहन पड़ताल के बाद चयन समिति के सदस्य सांसद व कलाकार मनोज तिवारी, पद्मश्री नलिनी-कमलनी, गायक कुमार विशु, माटिवेषनल स्पीकर सोनू षर्मा व साहित्यकार भुवनेष सिंघल ने विभिन्न कार्यक्षेत्रों के 17 लोगों का चयन किया। अटल सम्मान समारोह के अध्यक्ष व कार्यक्रम के आयोजक सुप्रसिद्ध कवि भुवनेश सिंघल ने बताया कि यह उनका दसवां आयोजन है जिसमें विभिन्न क्षेत्रों के लिए कलाकारों, मनीशियों, साहित्यकारों, समाजसेवियों, व्यापारियों व राजनीतिज्ञों आदि सहित देश-विदेश के 17 चयनित योग्य लोगों को अपनी भारतीय परम्परा व सस्कृति के अनुसार षंखनाद व मंत्रोच्चार की स्वरलहरियों के बीच सम्मानित किया गया। सिंघल ने यह भी बताया कि यह देश का एकमात्र ऐसा आयोजन है जिसका गठन स्वयं अटल बिहारी वाजपेयी की मौजूदगी में हुआ था और अपनी सांस्कृतिक पहचान के लिए विष्वभर में प्रसिद्ध है।

अटल सम्मान समारोह की अध्यक्षता लोकसभा सांसद व प्रसिद्ध कलाकार मनोज तिवारी ने की। मुख्य अतिथि के रूप में भारत सरकार में केन्द्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी ने दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का प्रारम्भ किया। विषिश्ट अतिथि के रूप में सांसद सत्यनारायण जटिया, निवर्तमान केन्द्रीय इस्पात मंत्री आर.सी.पी. सिंह, दिल्ली विधानसभा मुख्य सचेतक प्रतिपक्ष अजय महावर, प्रसिद्ध समाजसेवी एस. एस. अग्रवाल, सत्यभूशण जैन, जगदीष मित्तल, पवन गुप्ता व भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व समारोह के संरक्षक श्याम जाजू आदि उपस्थित रहे। 

अटल सम्मान समारोह के रोशन कंसल, वाईस चेयरमैन नीरज गुप्ता व डिप्टी चेयरमैन नवीन तायल ने आने वाले सभी दर्शकों का स्वागत पुश्प माला व तिलक लगाकर किया तथा सभी अवॉर्डियों के जीवन कार्यो पर प्रकाश डाला। सभी अवॉर्डियों को 11 ब्राहमणों द्वारा शंखनाद व मंत्रोच्चार के बीच विशेष सम्मान भेंट किए गये जिसमें उनके सम्मान पत्र का वाचन किया गया तथा उनके प्रेरणामयी कार्यों को दर्शकों के समक्ष स्क्रीन पर दिखाया गया। सभी अवार्डियों को चौकी पर स्थान देकर उनका तिलक किया गया। उसके बाद वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर से विशेष तौर पर मंगाई पुष्प माला पहनाई जाएगी, श्रीफल, गणेष प्रतिमा, जेम माईन्स की विशेष रत्नों की माला, विशेष प्रतीक चिन्ह, माता वैश्णो देवी मंदिर से मंगवाया अंग वस्त्र, श्री रामचरित मानस ग्रंथ, अटल समारोह का विशेष बैग, स्मृतियां अटल हैं पुस्तक तथा एक सम्मान पत्र सहित कुल 10 वस्तुएं भेंट कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर उपस्थित होने वाले लगभग दो हजार दर्शकों का स्वागत पुश्प माला व तिलक से किया गया। अपने सम्बोधन में अध्यक्ष्ता कर रहे मनोज तिवारी ने आयोजन के सांस्कृतिक पक्ष की विषेश सराहना की। मीनाक्षी लेखी ने इस दिन को सुषासन दिवस के रूप में मनाने पर प्रकाष डाला व सभी को विकसित भारत हेतु सामूहिक योगदान की षपथ दिलाई। अंत में सभी दर्षकों को अटल जी व भारत मंडपम की स्मृति के रूप में एक विषेश गिफ्ट भेंट किया गया।


Post a Comment

0 Comments