140 करोड़ लोगों तक सुलभ हेल्थकेयर पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है,

140 करोड़ लोगों तक सुलभ हेल्थकेयर पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है, इसके लिए भारत दुनिया के लिए रोल मॉडल बनने के लिए तैयार है


 _डेटा सुरक्षा और डिजिटल विभाजन की चिंताओं को सक्रिय रूप से हल करने की आवश्यकता है।_ 

20 जनवरी 2024: देश हेल्थकेयर में डिजिटल तकनीक बदलाव लाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इसके अलावा भारत देश ने डिजिटल पेमेंट और हेल्थकेयर के प्रमुख क्षेत्रों के लिए टेक्नोलॉजी को अपनाने में काफी प्रगति भी की है। ये बातें तीसरे IHW डिजिटल हेल्थ समिट और अवॉर्ड्स में सार्वजनिक हेल्थ एक्सपर्ट ने कही। थिंक टैंक IHW काउंसिल द्वारा आयोजित डिजिटल हेल्थ समिट और अवॉर्ड्स ने दो दिवसीय समिट में डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टम बदलाव करने के लिए सार्थक बातचीत हेतु सभी प्रमुख स्टेक होल्डर को एक साथ लाया।


सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री श्री रामदास अठावले ने इस अवसर पर उपस्थित होकर हेल्थ सेक्टर में सराहनीय कार्य के लिए IHW काउंसिल को बधाई दी और कहा कि डिजिटल हेल्थ अवॉर्ड्स जैसी पहल हर किसी को अपनी सेहत को प्राथमिकता देने और परिवारों और समुदायों के बेहतर स्वास्थ्य का निर्माण करने के लिए प्रेरित करती है। 


समिट में महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन और हेल्थ इक्विटी, देश में स्टार्टअप इको सिस्टम, AI और ड्रोन, स्मार्ट हॉस्पिटल और बड़े डेटा जैसी भविष्य की हेल्थकेयर टेक्नोलॉजी सहित डिजिटल स्वास्थ्य से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा हुई और डिजिटल हेल्थ सेक्टर में इनोवेशंस और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा किया गया। 

देश में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज सुनिश्चित करने के लिए रणनीतिक सहयोग की भूमिका पर बोलते हुए नीति आयोग के  वाइस चेयरमैन ऑफिस डॉ. उर्वशी ने कहा, "भारत ने हेल्थकेयर सेक्टर में काफी प्रगति की है और पब्लिक-प्राइवेट भागीदारी ने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सभी के लिए सुलभ और किफायती हेल्थकेयर सुनिश्चित करने के लिए मोमेंटम (गति) बढ़ाने की जरूरत है।”


डिजिटल हेल्थकेयर में शानदार काम के लिए सम्मानित किए गए कुछ प्रमुख नाम प्रॉक्टर एंड गैंबल हेल्थ लिमिटेड, सिप्ला लिमिटेड, रोश डायग्नोस्टिक्स, ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स, एबॉट इंडिया लिमिटेड, मणिपाल हॉस्पिटल्स और अपोलो हॉस्पिटल्स थे।


IHW काउंसिल के CEO श्री कमल नारायण ने इवेंट पर टिप्पणी करते हुए कहा, “चूंकि हेल्थकेयर सेक्टर एक नए डिजिटल भविष्य के लिए खुद को फिर से तैयार कर रहा है, इसलिए यह जरूरी है कि हम वंचित और कमजोर लोगों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए डिजिटल पहुंच और डिजिटल साधनों के उपयोग में पहले से मौजूद कमियों को पाटने पर ध्यान केंद्रित करें।”


वॉल्टर क्लूवर इस आयोजन के लिए डिजिटल हेल्थ टेक पार्टनर थे, फाइब EMIS हेल्थ फाइनेंस पार्टनर और रूरल डिजी-टेक हेल्थकेयर ट्रांसफॉर्मेशन सेशन पार्टनर थे। HCG - हेल्थकेयर ग्लोबल एंटरप्राइजेज, पारस हेल्थ, रेडक्लिफ लैब्स, रेमीडी, क्लिनिसिस और फिटनास्टिक हेल्थ एसोसिएट पार्टनर, VI-स्कैन डायग्नोस्टिक्स डायग्नोस्टिक टेक पार्टनर थे और टीमवर्क कम्युनिकेशंस ग्रुप तीसरे डिजिटल हेल्थ समिट और अवार्ड्स के लिए कम्युनिकेशन पार्टनर था।

Post a Comment

0 Comments