22 जनवरी को राम नाम के 5 दीपक अवश्य जलाएं, दीपावली मनाएं : बोधराज सीकरी

 समाजसेवी बोधराज सीकरी की अगुवाई में हनुमान चालीसा पाठ मुहिम उत्तरोत्तर अग्रसर, स्पर्श किया 5 लाख 24 हजार का आकंडा



22 जनवरी को राम नाम के 5 दीपक अवश्य जलाएं, दीपावली मनाएं : बोधराज सीकरी


गुरुग्राम। बोधराज सीकरी की अगुवाई में कल दिनांक 9 जनवरी 2024 को हनुमान चालीसा पाठ श्री श्याम मंदिर, न्यू कॉलोनी के प्रांगण में हुआ, जिसकी आयोजक श्रीमती उषा गांधी जी, वयोवृद्ध माताजी रही। गजेंद्र गोसाई द्वारा मंगलाचरण उपरांत ओम् की तीन बार ध्वनि की गई। पंडित भीमदत्त द्वारा शंख नाद समापन पर राम-राम नाम का 108 बार माला जाप किया गया। गोसाई जी ने “मानव जन्म अनमोल रे“ के संपुट से सभी भक्तों को नचाया। इस मंदिर में पाँचवी बार पाठ किया गया।


बोधराज सीकरी ने अपने संबोधन में रामायण का प्रसंग लिया जिसमें उन्होंने कुंभकर्ण और विभीषण के चरित्र का तुलनात्मक वर्णन किया। कि कैसे कुंभकर्ण को रावण का संग मिला और जीवन सो कर बिता दिया और कैसे विभीषण को हनुमान जी का संग मिला और जीवन संवार लिया। 


श्री बोधराज सीकरी के अनुसार राम लक्ष्मण और सीता तीन लोग वन में गये और उन्हें भेजने में भी तीन लोग उत्तरदायित्व थे। केकई, मंथरा और दशरथ। दशरथ काम का प्रतीक है और राम धर्म का प्रतीक। जहां काम होगा वहाँ धर्म नहीं रहेगा। केकई मोह का प्रतीक है और सीता शांति का प्रतीक। जहां मोह होगा वहाँ शांति नहीं रहेगी। मंथरा लोभ का प्रतीक है और लक्ष्मण सेवा का प्रतीक हैं। जहाँ लोभ होगा वहाँ सेवक नहीं रह सकता। 


बोधराज सीकरी ने 22 जनवरी के लिये सभी से आग्रह किया कि इसे उत्सव की भांति मनाएं। समय पर अपने नजदीकी के मंदिर में जाएं और दीपावली की भाँति आयोजन करें। शाम को पाँच दीपक जलाएं। दो दीपक घर के प्रांगण में दो दहलीज़ में और एक दीपक तुलसी के आगे। सीकरी जी ने फिर पाँच दीयों का महत्व भी बताया कि पाँच दीये ही क्यों। 


28 जनवरी रविवार प्रात: 11 बजे दशहरा ग्राउंड न्यू कॉलोनी से भव्य शोभा यात्रा पंजाबी बिरादरी महा संगठन द्वारा रामलला के निमित्त निकाली जायेगी उसकी विस्तृत जानकारी भी दी और आग्रह किया कि सभी उसके साक्षी बनें।


इस अवसर पर अश्वनी वर्मा, सुभाष ग्रोवर, रणधीर टंडन, जगदीश रखेजा, मदन सतीज़ा, तिलक चानना, सतपाल नासा, रमेश मुंजाल, रमेश कामरा, द्वारका नाथ मक्कड़, किशोरी लाल डुडेजा, राजिंदर बजाज, सुखदेव, युधिष्ठिर अलमादी, रुपेश चौधरी, तिरलोक गोसाई उपस्थित रहे।


महिला मंडली से पुष्पा नासा, रचना बजाज, ज्योत्सना बजाज, सिमरन बजाज, गीता, पूनम गोसाई, कृष्ण कथूरिया, मीनाक्षी मुंजाल उपस्थित रहीं।


कल श्री श्याम मंदिर में 150 साधकों द्वारा 21-21 बार पाठ किया गया। 


इसी प्रकार जनता रिहैबिलिटेशन सेंटर में पिछले कई मंगलवार से बोधराज सीकरी की अगुवाई में जो हनुमान चालीसा पाठ चल रहा है। वहां भी 40 विद्यार्थियों ने 21-21 बार पाठ किया। 


इसी प्रकार जामपुर शिव मंदिर ईस्ट ऑफ कैलाश में भी 25 साधकों ने 5-5 बार पाठ किया।

 

श्री विजय टन्डन और श्री रणधीर टन्डन इनकी फैक्टरी वी.के.रब प्लास्ट के नाम से जानी जाती है। उनके वर्कर्स ने संकल्प लिया कि वो हर मंगलवार को फैक्ट्री में काम करने से पहले हनुमान चालीसा पाठ करेंगे। इस निमित्त वहां के 70 कर्मचारियों ने 2-2 बार पाठ किया।


इसके अतिरिक्त पंजाबी बिरादरी महा संगठन की महिला प्रकोष्ठ की संयोजिका श्रीमती ज्योत्सना बजाज ने मंगलवार के दिन जहां-जहां भी हनुमान चालीसा का पाठ हो रहा है। उसके अतिरिक्त जूम के माध्यम से लगभग 25 महिलाओं ने 11-11 बार पाठ किया। 


इससे पहले 182 स्थानों पर हनुमान चालीसा के 519,716 पाठ 37,301 साधकों ने किए थे।


इस मंगलवार के पाठ को मिलाकर 187 स्थानों पर 37,611 साधकों द्वारा 524,246 हनुमान चालीसा पाठ हो चुके हैं।

Post a Comment

0 Comments