गुरुग्राम यूनिवर्सिटी में दो दिवसीय प्रथम पुस्तक मेले का आगाज़ , 25000 से अधिक पुस्तके प्रदर्शित की गयी, छात्रों में दिखी दिलचस्पी

 गुरुग्राम यूनिवर्सिटी में दो दिवसीय प्रथम पुस्तक मेले का आगाज़ ,  25000 से अधिक पुस्तके प्रदर्शित की गयी, छात्रों में दिखी दिलचस्पी 

पुस्तक मेले में छात्रों ने देखी किताबों की दुनिया

पुस्तक मेलों से पढ़ने-लिखने की परंपरा बढ़ रही आगे : प्रो. दिनेश कुमार, कुलपति 

गुरुग्राम विश्वविद्यालय गुरुग्राम के सभागार में दो दिवसीय प्रथम पुस्तक मेले का आयोजन किया गया। यूनिवर्सिटी के विवेकानंद केंद्रीय पुस्तकालय  द्वारा आयोजित पुस्तक मेले का शुभारंभ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो दिनेश कुमार  द्वारा फीता काटकर किया गया। इस मौके पर यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.दिनेश कुमार ने बताया कि मेला सुबह 10  बजे से लेकर सायं 5  बजे तक खुला रहेगा। 31 जनवरी शाम 5 बजे तक चलने वाले मेले में पुस्तक प्रेमियों के लिए विभिन्न प्रकार के प्रमुख प्रकाशकों एवं वितरकों से 25 प्रतिशत छूट मिलेगी। लगभग 40 प्रमुख प्रकाशकों एवं वितरकों ने पुस्तक मेले में अपनी दुकानें प्रदर्शित की ।  

इस  मौके पर गुरुग्राम विवि. के शिक्षकों,कर्मचारियों , विद्यार्थियों ने भाग लेते हुए अपने ज्ञानवर्धन हेतु अपनी पसंदीदा पुस्तके खरीदी । इस मौके पर कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि पुस्तकों की अपनी विशेष महत्ता है जोकि शोधार्थियों और पाठकों के लिए शोध और अध्ययन में विशेष रूप से उपयोगी होती है। उन्होंने ज्ञान के संग्रह को पुस्तकालय में संग्रहित करने का सुझाव दिया कि पुस्तकालय में सदैव नवीन और अच्छे संकलन को संग्रहित करना चाहिए ताकि अच्छे पुस्तकालय का निर्माण हो सके। यहां से पुस्तक प्रेमियों को कुछ न कुछ अवश्य सीखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि पुस्तक मेले से पवित्र कार्य कोई नहीं है। उन्होंने मेले के आयोजक डॉ. विजय मेहता, अमित कुमार सहित पूरी टीम को सफल आयोजन हेतु  बधाई दी । इस मौके पर डीन अकादमी अफेयर्स डॉ. सुभाष कुंडू भी उपस्थित रहे ।

Post a Comment

0 Comments