महिला पुलिस कर्मियों द्वारा बच्चियों को आत्मरक्षा के गुर सिखाए गए।

 नारी तू अबला नही है।

नारी शक्ति का प्रतीक है और समाज में समर्पित भूमिका निभा सकती है। उसे आत्मनिर्भरता और समानता का अधिकार है, जो समृद्धि और समरसता की दिशा में सहायक है। शहर को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने को गुरुग्राम पुलिस के प्रयास में आज एक कड़ी और जोड़ते हुए मोहम्मदपुर झाड़सा के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में कार्यशाला का आयोजन किया गया।

 इस कार्यशाला में महिला थाना मानेसर एवम क्षेत्रीय थाना सेक्टर 37 से महिला कर्मियों ने हिस्सा लिया। मुख्य वक्ता के तौर पर श्रीमती संगीता दास जी जो कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड में सहायक निदेशक के पद पर रही है, ने स्कूल की बच्चियों एवम महिला अध्यापकों को कानूनी अधिकार बड़े विस्तार से समझाए। उन्हे सुरक्षित रखने में 112 का महत्व बताया गया, तुरंत 112 के माध्यम से पुलिस कंट्रोल रूम को सूचित करना तक सिखाया गया तथा 112 का ऐप भी डाउनलोड कर प्रयोग करना सिखाया। इसके अतिरिक्त पॉक्सो एक्ट, पोश एक्ट तथा जेजे एक्ट के बारे चर्चा की गई।



महिला पुलिस कर्मियों द्वारा बच्चियों को आत्मरक्षा के गुर भी सिखाए गए।

इस कार्यक्रम में स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमती कविता ग्रेवाल तथा मोहम्मदपुर झाड़सा के प्रसिद्ध समाजसेवक श्री धर्मेंद्र फोजी भी उपस्थित रहे तथा बच्चों का उत्साहवर्धन किया।

Post a Comment

0 Comments