GU में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई गयी स्वामी विवेकानंद की जयंती

 GU में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई गयी  स्वामी विवेकानंद की जयंती

स्वामी विवेकानंद जयंती पर भाषण प्रतियोगिता आयोजित

भारत को 2047 तक विकसित देश बनाने के लिए प्रधानमंत्री के 'पंच-प्रण' (पांच संकल्प) के सिद्धांत को अपनाने की है आवश्यकता -प्रो. दिनेश कुमार कुलपति

स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और संदेशों से विद्यार्थियों को प्रोत्साहित व प्रेरित किया गया

शुक्रवार 12 जनवरी को गुरुग्राम विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर  विवि. के मीडिया अध्ययन विभाग एवं एनएसएस इकाई ने  भाषण प्रतियोगिता, प्रबोधन संवाद  के माध्यम से स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाई। इस मौके पर उपस्थित गुरुग्राम विवि. के कुलपति एवं कार्यक्रम अध्यक्ष प्रो. दिनेश कुमार, स्टॉरेक्स यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति एवं  कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ. अशोक दिवाकर, राष्ट्र सेविका समिति की प्रान्त सह कार्यवाहिका एवं कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्रतिमा मनचंदा, सामाजिक कार्यकर्ता जगदीश ग्रोवर  ने कार्यक्रम में भाग लेते हुए स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और संदेशों से विद्यार्थियों को प्रोत्साहित व प्रेरित किया । इस अवसर पर आयोजित भाषण प्रतियोगिता में जीयू के छात्रों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और अपनी क्रिएटिविटी के माध्यम से अपने हुनर का प्रदर्शन किया। इस मौके पर गुरुग्राम विवि. के कुलपति  प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि राष्ट्र के निर्माण में युवाओं की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है । 

यही कारण है कि आज के दिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में मनाया जाता है । मुख्य वक्ता डॉ. अशोक दिवाकर ने स्वामी विवेकानंद का शिकागो के ऐतिहासिक भाषण पर अपने विचार प्रस्तुत किए । कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्रतिमा मनचंदा ने युवाओं को स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात करने के लिए कहा । भाषण प्रतियोगिता में हर्ष ने पहला, पूनम  ने दूसरा और कपिल और पुलकित   ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। इस मौके पर डॉ. विजय मेहता, डॉ. राकेश कुमार योगी, डॉ. मीनाक्षी,  डॉ. रेनू चौधरी, डॉ. भूप सिंह समेत विवि. के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे ।

Post a Comment

0 Comments